Tuesday, September 28, 2021

बिहार के एक छोटे से गांव से निकलकर रची इतिहास, मात्र दूसरे प्रयास मे UPSC निकाल बनी IAS अफसर

करियर किसी भी व्यक्ति के जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। करियर चुनना एक चुनौतीपूर्ण कार्य हैं। समय के साथ हमारा सपना भी बदलता रहता है। कुछ लोग बचपन में ही अपने कैरियर का फैसला कर लेते हैं कि उन्हें भविष्य में क्या करना है परंतु कुछ लोग यह तय करने में बहुत देरी करते हैं कि उन्हें आगे चल कर क्या करना हैं। आज की हमारी कहानी एक ऐसी लड़की की है जिसने अपने करियर को चुनने में भरसक काफी लम्बा समय लगाया लेकिन अपने लक्ष्य को पाकर उन्होंने सफलता की इबारत लिख डाली।

दिव्या शक्ति (Divya Shakti)

दिव्या शक्ति बिहार (Bihar) की रहने वाली हैं। दिव्या गाँव की रहने वाली हैं, फिर भी वह अपने दूसरे ही प्रयास में यूपीएससी (UPSC) 2019 की परीक्षा में 79वीं रैंक के साथ सफल हुईं। दिव्या ने बताया कि उन्हे बचपन से यूपीएससी बनाने का सपना नहीं था। दिव्या ने सबसे पहले इंजीनियरिंग की पढाई की, इंजीनियर बनी। उसके बाद उन्होंने इकॉनोमिक्स से मास्टर्स किया। वह सब डिग्री प्राप्त करने के बाद दिव्या ने कुछ दिन तक एक कंपनी में नौकरी भी किया, परंतु वह कुछ इससे अलग करना चाहती थीं।

Divya Shakti

यूपीएससी करने की ऐसे मिली प्रेरणा

दिव्या ने अपने आस-पास पाया कि उनके कुछ सीनियर यूपीएससी की तैयारी कर रहे थे, तो कुछ पास भी कर चुके थे। उनसे प्रभावित हो कर दिव्या के मन में भी सिविल सर्विसेज में जाने का ख्याल आया। परंतु अब भी वह यह निश्चित नहीं कर पाई थीं की उन्हें यूपीएससी (UPSC) ही करना है या फिर इसके अलावा उन्हें क्या करना है। बहुत समय लेने के बाद दिव्या ने यूपीएससी UPSC करने का फैसला किया।

यह भी पढ़ें :- पहले IIT फिर IPS और अंततः अपने अटूट मेहनत से UPSC में अच्छे रैंक लाकर बनी IAS अधिकारी: सफलता

दिव्या शक्ति दूसरों को भी यही सुझाव देती हैं कि अपने कैरियर को तय करने में या जीवन में क्या करना है इसे तय करने में वक्त लगाना गलत नहीं है। दिव्या ने बताया कि अगर आपको ये समझ नहीं आ रहा कि आपको किस क्षेत्र में अपने कैरियर को बनाना है या क्या करना सही है। तो हमें यह समझने के लिए अपना पूरा वक्त लेना चाहिए। जल्दबाजी में हमे कोई फैसला नहीं करना चाहिए। उसके बाद हमें अपना लक्ष्य तय करना चाहिए फिर पूरे मन से उसे प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए।

मास्टर्स करने के बाद हर युवा को यह समझ आ जाता है कि अब उसे किस क्षेत्र में आगे बढ़ना है और जीवन में क्या करना है परंतु दिव्या का सफर बिल्कुल इसके विपरीत रहा है। दिव्या के बताने के मुताबिक मास्टर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने 1 वर्ष भिन्न-भिन्न परीक्षाएं दी, जिससे वे समझ पाए कि आखिर उन्हें किस क्षेत्र में जाना है। दिव्या पूरे 1 साल बाद यह समझ सकीं कि उसे अपने जीवन में क्या करना है।

Divya Shakti with his parents

दिव्या शक्ति ने यूपीएससी परीक्षा के लिए दिया सुझाव

दिव्या ने यूपीएससी UPSC परीक्षा के बारे में बताते हुए कहा कि UPSC की परीक्षा देने के पीछे उद्देश्य साफ होना चाहिए। अगर आप यूपीएससी UPSC की परीक्षा देने की तैयारी कर रहे हैं तो आपका हौसला बुलंद होना चाहिए क्योंकि इस परीक्षा में मंजिल देर से मिलती है। यह परीक्षा नकल या इस पद की शान-प्रतिष्ठा को देखकर नहीं करना चाहिए। इसके लिए बहुत ज्यादा मोटीवेशन की जरूरत है क्योंकि कभी-कभी लम्बे और कठिन संघर्ष के कारण इसमें मंजिल को पाने की इच्छा खत्म हो जाती है।

परीक्षा पूर्व किया पूरा डाउट्स क्लीयर

अगर आप इस परीक्षा में पहली बार में ही सफ़लता प्राप्त कर लेते हैं तो भी बाद में कम से कम 2 वर्ष का वक्त लग जाता हैं। दिव्या ने यूपीएससी UPSC परीक्षा देने से पहले इस परीक्षा के बारें में सारी जानकारी हासिल की। जैसे कि इस परीक्षा मे चयन होने के बाद क्या करना होगा, कैसी-कैसी कठिनाइयों का सामना करना होगा। दिव्या यह सब डाउट्स क्लीयर करने के बाद हीं यूपीएससी UPSC की परीक्षा देने का निर्णय किया।

UPSC की परीक्षा देने वाले कैंडिडेट के सवाल की बात पर दिव्या ने बताया है कि अक्सर UPSC की परीक्षा देने वाले कैंडिडेट के मन में तीन सवाल जरूर आते हैं।

ऑप्शनल का चयन कैसे करें..?

इसके बारे में जानकारी देते हुए दिव्या ने बताया की UPSC में दिए गए विषयो में से जिस विषय में आपको कन्फ्यूजन हो, उसकी NCERT की पुस्तकें पढ़नी चाहिए। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि जिस विषय का चुनाव करना है, उसकी पूरी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए उसकी किताबें और अन्य सोर्सेज उप्लब्ध हैं या नहीं। इसके बाद भी यदि समझ में ना आये तो पिछ्ले वर्ष का पेपर देखना चाहिए। इससे ऑप्शनल का चुनाव करने मे मदद मिलेगी।

दिव्या शक्ति के इंटरव्यू का वीडियो यहाँ देखें

दूसरा सवाल यह कि कोचिंग लेना सही है या नहीं..?

इसके जबाब में दिव्या ने बताया की यह कैंडिडेट के ऊपर निर्भर करता है। अगर बात मैटेरियल की है तो वह ऑनलाइन पाया जा सकता है। गाइडेंस की बात की जाय तो वो भी टॉपर्स टॉक के रूप मे मिल जायेगा। दिव्या ने भी निर्णय लेने से पहले बहुत सारी वीडियो देखा था।

तीसरा सवाल यह है कि क्या नौकरी के साथ परीक्षा की तैयारी करना संभव है..?

दिव्या ने इसके बड़े में बताते हुए कहा हां, नौकरी के साथ-साथ इस परीक्षा को पास किया जा सकता है। यह परीक्षा देने वाले व्यक्ति के योग्यता पर निर्भर करता है।

The logically दिव्या शक्ति को उनके प्रयास और उनकी कामयाबी के लिए उन्हें बधाई देता है।