Wednesday, October 21, 2020

राजनीति के भीष्म पितामह कहे जाने वाले अटल बिहारी वाजपेयी अनन्त तक आदर्श रहेंगे: Atal Bihari Vajpayee

भारतीय राजनीति के भीष्म पितामह कहे जाने वाले स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जिन्होंने अपने व्यक्तित्व , कृतित्व , कवित्व और प्रतिनिधित्व से लोगों को खूब प्रेरित किया ! अपनी बहुमुखी प्रतिभा से लोगों के दिलों में खास जगह बनाने वाले अटल जी अपने विचार , व्यवहार से हमेशा लोगों के बीच प्रासंगिक रहते हैं ! आज उनकी पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धेय नमन करते हुए जानते हैं उनकी जीवनयात्रा के बारे में…

भारतीय लोकतंत्र के सच्चे सिपाही का जीवन अनेक संघर्षों की दास्तान है ! संघर्षों से जूझकर जिंदगी में सफलता की इबारत लिखने वाले अटल जी हमेशा सबके आदर्श रहेंगे ! उनकी जिंदगी का हर हिस्सा इंसान को कुछ ना कुछ सिखा सकता है ! वे यथार्थ को जीने वाले एक सच्चे राजनेता थे जो ताउम्र पार्टी लाईन से हटकर राजनीति की ! गलत को गलत और सच को सच कहने की माद्दा जितनी उनमें थी वह किसी में नहीं ! अपने इसी उसूल के चलते पक्ष-विपक्ष दोनों के चहेते थे !




1924 ई. में ईसाई धर्म के संस्थापक ईसा मसीह के जन्मोत्सव के दिन अर्थात् 25 दिसम्बर को ग्वालियर में अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म हुआ ! उनके पिता पंडित कृष्ण बिहारी वाजपेयी और माता कृष्णा वाजपेयी थीं ! अटल जी के पिता ग्वालियर में अध्यापक थे साथ में हिन्दी और बज्र कविता के बेहतरीन कवि थे !

शिक्षा

अटल जी शिक्षा स्थानीय हीं हुई ! 12वीं पास करने के बाद ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से ग्रेजुएट की डिग्री ली ! इसके बाद कानपुर के डीएवी कॉलेज से राजनीति शास्त्र की पढाई पूरी की ! एम ए की पढाई के बाद वे एल.एल.बी की पढाई आरंभ किए लेकिन बीच में हीं वे इस पढाई को छोड़ दिया ! वे अपने छात्र जीवन में हीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए थे ! पूरे भारत में अनेक जगहों पर उन्होंने वाद-विवाद प्रतियोगिता में भी भाग लिया ! एलएलबी की पढाई छोड़कर वे संघ के कार्य में जुट गए ! उन्होंने राष्ट्रधर्म , पांचजन्य और वीर अर्जुन आदि पत्रिकाओं का सम्पादन भी किया !

राजनीतिक जीवन

वे भारतीय राजनीति के शिखर पुरुष थे जिन्होंने ताउम्र अपनी राजनीति से सबका दिल जीता इसलिए वे अजातशत्रु भी कहे जाते हैं ! स्वंयसेवक संघ के कार्यों को निष्ठापूर्वक निभाते हुए उन्होंने राजनीति में कदम रखा और सर्वप्रथम 1952 में पहली बार चुनाव लड़ा परन्तु उस चुनाव में उन्हें सफलता नहीं मिली ! वे हिम्मत नहीं हारे और 1957 में बलराम से जनसंघ के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा और जीतकर भारतीय लोकतंत्र का मंदिर संसद पहुँचे ! उस जीत के बाद अटल जी का कद और बढा ! अपने राजनीतिक कुशलता और ओजस्वी भाषण शैली से ना सिर्फ लोगों में छाप छोड़ी बल्कि तब के बड़े राजनेताओं का ध्यान भी अपनी ओर आकृष्ट किया ! अटल जी 1977 से 1979 तक तत्कालीन भारत सरकार में विदेश मंत्री रहे ! अपने उस कार्यकाल में अटल जी ने भारत और विदेश के देशों के बीच संबंध बेहतर स्थापित किए ! 1980 में जनता पार्टी से अलग होकर अपने दोस्तों संग एक नई पार्टी बनाई “भारतीय जनता पार्टी” ! एक छोटी सी पार्टी को अपने संघर्ष , परिश्रम और कुशलता से 1996 तक देश की प्रमुख पार्टी बना दी ! 1996 में गठबंधन कर पहली बार अटल जी देश के प्रधानमंत्री बने ! जो महज 13 दिनों में हीं गिर गई ! इसके बाद 1998 में वे पुन: प्रधानमंत्री बने लेकिन इस बार भी उनकी सरकार कार्यकाल पूरी नहीं कर पाई और 13 महीनों तक चली ! चुनाव पश्चात्ताप एक बार पुन: 19 अप्रैल 1998 को वे पुऩ: प्रधानमंत्री बने ! 13 दलों की गठबन्धन की सरकार पूरे पाँच वर्ष तक चलाकर अटल जी ने मिसाल पेश की ! 2004 चुनाव के बाद बढती उम्र और गिरते स्वास्थ्य की वजह से उन्होंने राजनीति से सन्यास के लिया ! वे अपने राजनीतिक जीवन में कुल 10 बार लोकसभा और 2 बार राज्यसभा के सदस्य रहे ! 5 दशकों से भी अधिक का उनका राजनीतिक जीवन बेदाग रहा !




ओजस्वी वक्ता और प्रांजल कवि

अटल बिहारी वाजपेयी अपनी कविता और भाषण के लिए भी हमेशा लोगों के बीच प्रासंगिक रहे ! एक वक्ता के तौर पर जब अटल जी बोलते तो ऐसा समाँ बँध जाता कि लोग बिना उनके भाषण पूर्ण हुए हिलते तक नहीं ! लोग उनके भाषण सुनने के लिए दूर-दूर से आते और देर तक इंतजार भी करते ! संसद भवन में भी उन्होंने कई यादगार भाषण दिए जिनपर पक्ष-विपक्ष दोनों ने तालियाँ बजाईं ! 1977 वे विदेश मंत्री के नाते संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में भाषण दिया जो बेहद प्रचलित हुआ और विदेश के प्रतिनिधियों ने उन्हें खूब सराहा ! एक बेहतरीन कवियों में से एक थे जिनकी जादुई कलम ने काल के कपाल पर पुरजोर गीत रचे ! गीत नया गाता हूँ , कदम मिलाकर चलना होगा , हिन्दू तन-मन हिन्दू जीवन , अमर आग है , मेरी इक्यावन कविताएँ आदि रचनाएँ जनमानस को खूब पसन्द आई !

पुरस्कार व सम्मान

अटल बिहारी वाजपेयी जी को यूं तो कई पुरस्कार व सम्मान से नवाजा गया ! 1992 में तत्कालीन भारत सरकार ने पद्मविभूषण सम्मान दिया व 2015 में मोदी सरकार ने उन्हें भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया !

प्रधानमंत्री के रूप में किए गए जनकल्याण कार्य

अपने प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए अटल जी ने राष्ट्र निर्माण और जनकल्याण हेतु कई बेहतर कार्य किए ! 1998 में पोखरण परमाणु परीक्षण से पूरे विश्व में भारत की छवि एक शक्तिशाली देश की बनाई ! उन्होंने स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना , विदेशी कम्पनियों को भारत लाना , विदेश के देशों के साथ मधुर संबंध स्थापित करना सहित कई जनकल्याणकारी कार्य किए ! जब पाकिस्तान ने भारत पर आघात किया तो कारगिल युद्ध जीतकर यह बता दिया कि भारत किसी रूप में भी कमजोर नहीं है !

भारतीय राजनीति के यह जनप्रिय नेता 16 अगस्त 2018 को लम्बी बीमारी के पश्चात् इस असीम संसार को अलविदा कह गए ! अपने कृतित्व से लोगों के दिलों में बसने वाले महान प्रेरणा , एक सच्चे देशभक्त अटल बिहारी वाजपेयी जी को The Logically उनकी पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धेय श्रद्धांजलि अर्पित करता है !

Vinayak Suman
Vinayak is a true sense of humanity. Hailing from Bihar , he did his education from government institution. He loves to work on community issues like education and environment. He looks 'Stories' as source of enlightened and energy. Through his positive writings , he is bringing stories of all super heroes who are changing society.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

वह महिला IPS जिसने मुख्यमंत्री तक को गिरफ्तार किया था, लोग इनकी बहादुरी की मिशाल देते हैं: IPS रूपा मुदगिल

अभी तक सभी ने ऐसे कई IPS और IAS की कहानी सुनी भी है और पढ़ी भी है, जिसने कठिन मेहनत और...

नारी सशक्तिकरण के छेत्र में तेलंगाना सरकार का बड़ा कदम ,कोडाड में मोबाइल SHE टॉयलेट किया गया लांच

सार्वजनिक जगह पर शौचालय महिलाओं के लिए हमेशा से एक बड़ी समस्या का कारण रहा है। इस समस्या से निपटने के लिए...

15 फसलों की 700 प्रजातियों पर रिसर्च कर कम पानी और कम लागत में होने वाले फसलों के गुड़ सिखाते हैं: पद्मश्री सुंडाराम वर्मा

आज युवाओं द्वारा सरकारी नौकरियां बहुत पसंद की जाती है। अगर नौकरियां आराम की हो तो कोई उसे क्यों छोड़ेगा। लोगों का...

महाराष्ट्र की राहीबाई कभी स्कूल नही गईं, बनाती हैं कम पानी मे अधिक फ़सल देने वाले बीज़: वैज्ञानिक भी इनकी लोहा मान चुके हैं

हमारे देश के किसान अधिक पैदावार के लिए खेतों में कई तरह के रसायनों को डालते हैं। यह रसायन मानव शरीर के...