Sunday, October 24, 2021

बॉलीवुड डायरेक्टर निधि परमार ने डोनेट किया 40L ब्रेस्टमिल्क, उन बच्चों को फायदा मिलेगा जिनकी माँ नही हैं

मां का दूध नवजात बच्चों के पालन पोषण के लिए सबसे अधिक उपयोगी माना जाता है, लेकिन दुर्भाग्यवश कुछ ऐसे भी बच्चे होते हैं जिन्हें जन्म के उपरांत मां का दूध नसीब नहीं होता है और वह अनेकों बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।

ऐसे ही कुछ बच्चों के लिए यह बॉलीवुड डायरेक्टर किसी एंजल से कम नहीं हैं, जिन्होंने खुद के 40 लीटर ब्रेस्टमिल्क को मिल्क बैंक में दान किया है, और साथ ही इस अनुकरणीय पहल से एक बेहतर संदेश देने का कार्य किया है।

Nidhi parmar hiranandini

भारत जैसे देश में जहां ब्रेस्ट मिल्क डोनेशन(Breast milk donation) को अभी भी एक वर्जित प्रक्रिया समझा जाता है, इस तरह के काम को करने के बारे में अभी लोग सोच भी नही सकते हैं। बॉलीवुड डायरेक्टर निधि परमार हीरानंदानी(Nidhi Parmar Hiranandani) ने इस नेक पहल की शुरुआत की है जिसे चारों तरफ से सराहना मिल रही है

एक रिपोर्ट के अनुसार निधि एक फिल्म डायरेक्टर हैं जो अपनी फिल्म ‘सांड की आंख’ के लिए भी जानी जाती हैं, निधि ने फरवरी 2020 में एक बच्चे को जन्म दिया।

यह भी पढ़ें :- कोरोना से पीड़ित महिला के नवजात बच्चे को नर्स ने कराया स्तनपान

शुरुआती दिनों में निधि(Nidhi parmar hiranandini) ने यह महसूस किया कि उनके पास ब्रेस्टमिल्क काफी अधिक मात्रा में उपलब्ध है और वह इसे फ्रीज़ में एकत्रित करने लगीं। लेकिन जब दूध अधिक मात्रा में एकत्रित हो गया तब उन्हें लगा कि यह कहीं ना कहीं इस्तेमाल के आभाव में बेकार हो सकता है। इसके उपरांत निधि ने इंटरनेट पर ब्रेस्ट मिल्क डोनेशन(Breast milk Donation) के बारे में सर्च किया फिर उन्हें कुछ और रोचक जानकारियां प्राप्त हुई।

Breast milk donation

विदेशों में इस प्रकार के डोनेशन एक आम बात हैं लेकिन भारत जैसे देश में इस पहल के बारे में किसी को जानकारी भी नही थी। काफी मसक्कत के बाद निधि को मुंबई स्थित एक हॉस्पिटल के बारे में पता चला जहां ब्रेस्ट मिल्क की काफी जरूरत थी और वहां ब्रेस्ट मिल्क डोनेशन का प्रावधान भी उपलब्ध था । एक पूरी कार्यवाही के बाद निधि ने लगभग 40 लीटर ब्रेस्ट मिल्क डोनेट किया जिसे उन बच्चों को उपलब्ध कराया गया जिनकी मां या तो गुजर चुकी थीं या फिर उनमें दूध की कमी थी ।

यधपि इस तरह के कार्य के बारे में भारत में अधिक लोग नहीं जानते हैं लेकिन विदेशों में यह प्रचलन काफी आम है। निधि द्वारा शुरू किए गए इस पहल को The Logically की तरफ से हम सराहना करते हैं, और साथ ही अपने पाठकों से यह अपील करते हैं कि ऐसे कार्यों के बारे में उचित जानकारी प्राप्त कर लोगों को यथासंभव मदद करने की कोशिश करें।