Tuesday, September 28, 2021

मछली पालन से कमाया जा सकता है लाखों रुपये: वीडियो देखकर एक्सपर्ट के इस सलाह को समझें

हर इंसान चाहता है कि वह ऐसा कार्य करे जिससे उसे अधिक लाभ हो और उसकी गरीबी दूर हो। बेहतर कार्य करने वालों में से हैं बिहार (Bihar) के ब्रजेश कुमार सिंह (Brajesh Kumar Singh) जो अपनी तकनीक को ना सिर्फ खुद अपनाते बल्कि अन्य किसानों को भी आत्मनिर्भर बनाने के लिए है प्रशिक्षित करते हैं। वह खुद मछली पालन करते हैं और इसकी ट्रेनिंग भी किसानों को देतें हैं।

ब्रजेश कुमार सिंह

बिहार राज्य की मिट्टी और यहां का मौसम मछली पालन के लिए बेहतर है। फिर भी पता नहीं क्यों राज्य के लोग अन्य राज्यों पर मछलियों के लिए निर्भर रहते हैं। लेकिन अगर किसान मछली पालन को अपना ले तो वह खुद आत्मनिर्भर हो सकते हैं और अपनी बेरोजगारी और गरीबी को भी दूर कर सकते हैं। यह कथन बिहार (Bihar) में वैशाली (Vaishali) जिले के रहने वाले ब्रजेश कुमार सिंह का है। जिनका बहुत ही बड़ा “बायो फ्लॉक प्लांट” है।

फिश प्रोडक्शन और फिश सीड्स का भी करतें हैं उत्पादन

इनका यह बायो फ्लॉक प्लांट (Boi Floc Plant) करीब 1 एकड़ में है। ब्रजेश यहां मछली पालन के साथ मछली के बीजों का उत्पादन भी करते हैं। यह बायो फ्लॉक उन सभी किसानों के लिए लाभदायक है जिनके पास जमीन की कमी है। जो किसान मछली पालन करना चाहते हैं वह यहां से बेस्ट क्वालिटी के मछली के बीज ले सकते हैं। अगर ब्रजेश से कोई टेक्निकल सपोर्ट भी चाहिए तो वह किसानों के हर संभव समर्थन के लिए तैयार रहते हैं। इस बायो प्लांट में ब्रजेश मछलियों के लिए दवा और इनका भोजन भी रखते हैं। तो किसान यहां से मछलियों के लिए हर चीज प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढ़े :- अपनी खेती छोड़ शुरू किए मत्स्य पालन, अब कमा रहे हैं 80 लाख रुपये सलाना: यतीन्द्र कश्यप

मछली के बीज, खाद्य पदार्थ व सभी आवश्यक चीज करवाते हैं उपलब्ध

ब्रजेश के इस प्लांट का सबसे अच्छा लाभ यह है कि व्यक्ति को किसी सामग्रियों के लिए इधर-उधर जाने की जरूरत नही पड़ेगी। उनका कहना है कि लोग कोशिश करते हैं कि वह मछली पालन करें। लेकिन इस बात से डर जाते हैं कि वह मछलियों के बीज कहां से खरीदें, उसके गुण अच्छे होंगे कि नहीं। अगर उनकी खाने के लिए भोज्य की जरूरत है तो भोजन कहां से खरीदेंगे। या फिर मछलियों को अगर कोई बीमारी हुई तो उसके लिए दवाई कहां से लेंगे। इन्ही सारी बातों को ध्यान में रखते हुए ब्रजेश ने यह कार्य किया है। वे कई प्रकार के मछलियों, बीज ,भोजन और दवाइयों को रखते हैं।

निःशुल्क देतें हैं प्रशिक्षण

ब्रजेश अपने तकनीक को सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि राज्य के सभी किसान भाईयों को इस कार्य को अपनाएं और आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित करते हैं जिससे हमारे राज्य की गरीबी दूर हो। इसलिए इन्होंने निःशुल्क ट्रेनिंग देने की योजना बनाई है। जो किसान मत्स्य पालन करना चाहते हैं वह इनसे ट्रेनिंग लेकर अपना कार्य शुरू कर सकते हैं।

वीडियो में मत्स्य पालन की पूरी जानकारी देखे

खुद मत्स्य पालन करना और इसके गुण सभी को सिखाने और अपने राज्य से बेरोजगारी को दूर करने के लिए इनके प्रयास अनुकरणीय है। The Logically ब्रजेश कुमार मिश्र की खूब प्रशंसा करता है।