Sunday, November 29, 2020

ग्रीन मैन, जो पिछले 40 वर्षों से हर रोज एक पौधा लगाते हैं और लाखों पेड़ को कटने से बचाया

पर्यावरण में वह सभी प्राकृतिक संसाधन शामिल है जो कई तरीकों से हमारी मदद करता है। परंतु आज के व्यस्त जीवन में हम उस पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। लेकिन आज भी कुछ ऐसे लोग हैं जो खुद से ज्यादा पर्यावरण से प्यार करते हैं। उनमें से हीं एक हैं विजयपाल बघेल जो ग्रीन मैन के नाम से प्रसिद्ध हैं।

विजयपाल बघेल (Vijaypal Baghel)

उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh) के गाजियाबाद (Ghaziabad) के रहने वाले विजयपाल बघेल (Vijaypal Baghel) जिन्हे ग्रीन मैन कहा जाता है। विजयपाल पिछले 40 वर्षों से रोजाना एक पौधा जरूर लगाते हैं। सही तौर पर उन्हें प्रकृति प्रेमी कहा जा सकता है। विजयपाल अब तक बहुत से पौधों को काटने से रोक चुके हैं तथा दूसरों को भी ऐसा करने से रोकते हैं।

Vijaypal Baghel

वृक्षों की रक्षा की मिली प्रेरणा

विजयपाल गाजियाबाद के चंद्रगड़ी के रहने वाले हैं। एक बार की बात है वो अपने दादाजी के साथ रास्ते से जाते हुए कुछ लोगों को एक गूलर के पेड़ को कटते हुए देखे। पेड़ को काटने से उसमें से कुछ सफेद रंग का द्रव बाहर आ रहा था। उसे देख विजयपाल के मन में एक प्रशन उठा आखिर ये है क्या ? जवाब के लिए उन्होंने अपने दादा जी से पूछा कि इसमें से क्या निकल रहा है? तो उनके दादा जी ने जवाब देते हुए कहा कि ये लोग पेड़ को काट रहे हैं, इसलिए पेड़ रो रहा है और उसकी आंखों से आंसू की जगह यह दूध जैसा एक सफेद द्रव बाहर निकल रहा है।

यह भी पढ़ें :- पेड़ों की कटाई रोकने के लिए इन्होंने अपनी जान दांव पर लगा दी, दुनिया इन्हें लेडी टार्ज़न के नाम से जानती है: पद्मश्री जमुना टुडू

बचपन में हीं वृक्ष बचाव के लिए हुए प्रयासरत

विजयपाल जाकर उस गूलर के पेड़ से लिपट गए थे। पेड़ काट रहे लोगों ने यह देख कर पेड़ काटना छोड़ दिया। ऐसे ही विजयपाल ने इस कार्य की शुरूआत की। बहुत ही कम आयु में विजयपाल यह समझ गए थे कि ऐसा करके वो बहुत से पेड़ को कटने से बचा सकते हैं।

Vijaypal Baghel green man

वृक्ष बचाव के लिए शुरू किया आंदोलन

साल 1976 में विजयपाल ने संरक्षण देने का काम किया था, जिसे साल 1993 में उन्होंने उस संरक्षण को एक आंदोलन के रुप में बदल दिया। जिससे बहुत से पेड़ को बचाया गया और अन्य लोगों को भी पेड़ बचाने के लिए जागरूक किया गया। उसके बाद इस संरक्षण को एक संगठन के रूप में बदल दिया गया। जिसका नाम था “मेरा वृक्ष”।

ग्लोबल पीस मिशन (Global Peace Mission)

विजयपाल एक मिशन चला रहे हैं, जिसका नाम ग्लोबल पीस मिशन है। इस मिशन के तहत वह भारत के अलग-अलग राज्यों में जाते हैं और वहां लोगों को पेड़ काटने से रोकते हैं तथा ऐसा ना करने के लिए जागरूक भी करते हैं। विजयपाल बताते हैं कि फूलों या फलों के बीजों को हमें इधर-उधर नहीं फेकना चाहिए बल्कि उस बीज को पशु-पक्षियों को दे देना चाहिए। ऐसा करने से नए पेड़ उगने की संभावना ज्यादा होती है।

 green man

एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा हुए सम्मानित

विजयपाल के किए गए इस अदभुत कार्य को देखते हुए उन्हें बहुत से नाम दिये गए जैसे कि हरित ऋषि, हिमालय भूषण और ग्रीन मैन आदि। एक समारोह में जहां विजयपाल को सम्मानित किया जाना था। वहाँ उनकी मुलाकात एपीजे अब्दुल कलाम से हुई। एपीजे अब्दुल कलाम ने उन्हें बहुत ही प्रोत्साहन दिया। उसके बाद से विजयपाल ने यह निश्चित किया कि वह हरे रंग के कपड़े तथा हरे रंग के चीजों का ही इस्तेमाल करेंगे। जिससे दूसरों को भी जागरूक कर सके।

विजयपाल कई शोधन तथा विचारों पर कार्य कर रहे हैं। ‌विजयपाल ने एक मुहीम चलाया जिसमें उनके द्वारा मांग की गई कि बरगद के पेड़ को राष्ट्रीय वृक्ष का स्थान दिया जाए।

The logically विजयपाल जी के अद्भुत कार्य की तारीफ करता है तथा हर मनुष्य से अपील करता है कि विजयपाल जी से सीख लेते हुए प्रकृति से प्रेम करें और वृक्षारोपण वह वृक्ष बचाव करें।

प्रियंका ठाकुर
बिहार के ग्रामीण परिवेश से निकलकर शहर की भागदौड़ के साथ तालमेल बनाने के साथ ही प्रियंका सकारात्मक पत्रकारिता में अपनी हाथ आजमा रही हैं। ह्यूमन स्टोरीज़, पर्यावरण, शिक्षा जैसे अनेकों मुद्दों पर लेख के माध्यम से प्रियंका अपने विचार प्रकट करती हैं !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

30 साल पहले माँ ने शुरू किया था मशरूम की खेती, बेटों ने उसे बना दिया बड़ा ब्रांड: खूब होती है कमाई

आज की कहानी एक ऐसी मां और बेटो की जोड़ी की है, जिन्होंने मशरूम की खेती को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया...

भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन ‘तेजस’ बन्द होने के कगार पर पहुंच चुकी है: जानिए कैसे

तकनीक के इस दौर में पहले की अपेक्षा अब हर कार्य करना सम्भव हो चुका है। बात अगर सफर की हो तो लोग पहले...

आम, अनार से लेकर इलायची तक, कुल 300 तरीकों के पौधे दिल्ली का यह युवा अपने घर पर लगा रखा है

बागबानी बहुत से लोग एक शौक़ के तौर पर करते हैं और कुछ ऐसे भी है जो तनावमुक्त रहने के लिए करते हैं। आज...

डॉक्टरी की पढ़ाई के बाद मात्र 24 की उम्र में बनी सरपंच, ग्रामीण विकास है मुख्य उद्देश्य

आज के दौर में महिलाएं पुरुषों के कदम में कदम मिलाकर चल रही हैं। समाज की दशा और दिशा दोनों को सुधारने में महिलाएं...