Monday, January 30, 2023

Pro-Vitamin मक्का जो आम मक्के से अधिक फायदेमंद है, इसकी खेती में कमाई बहुत ज्यादा है

अगर हम अनुसंधान केंद्र के विषय में बात करें तो कृषि क्षेत्र के विकास में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका है। अनुसंधान द्वारा ही किसानों को खेती में आने वाली परेशानियों से मदद मिलती है। अनुसंधान द्वारा ही कई प्रकार की फसलों की प्रजातियां विकसित होती है जो जलवायु के अनुकूल होती है और किसानों के लिए अधिक फायदेमंद भी।

इस लेख द्वारा हम आपको यह बताएंगे कि ICAR द्वारा मक्के की ऐसी किस्म विकसित हुई है जो अन्य मक्के के मुकाबले अधिक पौष्टिक एवं लाभदायक है। आईसीएआर द्वारा प्रोविटामिन मक्का की प्रजाति तैयार की गई है इसमें प्रोविटामिन लाइसिन तथा टाइपटोफेन आदि के गुण है।

प्रोविटामिन मक्का है अधिक लाभदायक

जानकारी के मुताबिक साधारण मक्के में प्रोविटामिन ए की मात्रा 1 से 2 पीपीएम, टाइपटोफेन की मात्रा 0.3-0.4 फ़ीसदी तथा लाइसिन की मात्रा 1.5 से 2.0 फ़ीसदी होती है। परंतु वही जैव संबंधित पूसा विवेक क्युपीएम प्रजाति में प्रो विटामिन ए की मात्रा 8.15, टाइपटोफैन की मात्रा 0.74 तथा लाइसिन की मात्रा 2.67 फ़ीसदी है। IACR द्वारा विकसित इस मक्के में टाइपटोफेन, लाइसिन तथा प्रोविटामिन-ए भरपूर मात्रा में उपलब्ध है जो सबके लिए बेहद लाभदायक है। -Maze Farming

यह भी पढ़ें:-Boiling River: सर्दी के मौसम में भी उबलता है इस नदी का पानी, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

आईए जानते हैं कि प्रो-विटामिन ए क्या है??

हम आपको यह बता दें कि जानकारी के मुताबिक प्रोविटामिन हमें सिंपल beta-carotene की मात्रा होती है जो हमारे सेहत हेतु लाभदायक है। इसके सेवन से कई बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती है। गर्भवती महिला या फिर नई माताओं हेतु यह प्रोविटामिन काफी महत्वपूर्ण है। प्रोविटामिन ए के सेवन से इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होता है। इससे हमारे शरीर को इन्फेक्शन से लड़ने में हिम्मत मिलती है एवं आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। इसके साथ-साथ हमारी हड्डियां भी मजबूत होती है प्रो विटामिन ए की आपूर्ति के लिए लोग पपीता, दही, अंडा, दूध, गाजर, स्वीट पोटैटो, सब्जियां, पालक, सोयाबीन तथा पत्तेदार हरी सब्जियों का सेवन करते हैं। -Maze Farming

हैं अनेकों लाभदायक गुण

इससे कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी लाभ मिलता है। इन सबके अतिरिक्त इसमें जो लाइसीन तथा टिप्टोफेन मौजूद होता है यह दाद, खाज, खुजली एवं पेट से जुड़ी बीमारियों से निजात दिलाने में महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही यह नाइट्रोजन को संतुलित रखता है। इसलिए ये साधारण मक्का के मुकाबले अधिक लाभदायक है। ये लोगों को कुपोषण से लड़ने में भी मदद करेगा। -Maze Farming

यह भी पढ़ें:-करोड़ों की घड़ी, कार और आलिशान घर, इन फोटोज में देखें KL Rahul की लक्जरियस लाइफस्टाइल