Thursday, February 2, 2023

जिस यूनिवर्सिटी में थे चपरासी, उसी में बनें असिस्टेंट प्रोफेसर, कायम की सफलता की मिसाल

कहते हैं अगर मन मे लगन हो तो किसी भी मुश्किल काम को आसान बनाया जा सकता है। आज की हमारी यह कहानी एक ऐसे शख़्स की है जो अपनी मेहनत के बदौलत चपरासी से प्रोफेसर बनने का सफर तय किए हैं। इसमें खास बात ये है कि वो जिस यूनिवर्सिटी में चपरासी का काम करते थे वहीं पर अब प्रोफेसर बनकर अपना कार्यभार संभालने वाले हैं।

चपरासी से प्रोफेसर तक का सफर

जानकारी के अनुसार तिलका मांझी भागलपुर यूनिवर्सिटी के अंबेडकर डिपार्टमेंट में कमल किशोर मंडल बतौर चपरासी कार्यरत थे। परन्तु उन्होंने मेहनत के बदौलत चपरासी से असिस्टेंट प्रोफेसर का सफर तय किया। उनकी नियुक्ति बिहार राज्य विवि सेवा आयोग द्वारा हुई। अपने इस सफलता के बदौलत आज चर्चा के पात्र हैं। -Kamal Kishore Mandal

यह भी पढ़ें:-भारत में स्थित ऐसी 6 अद्भूत जगहें, जिनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में हो चुका शामिल: आप भी जानें

पिता चलाते हैं पान की दुकान

उन्होंने तिलकामांझी भागलपुर यूनिवर्सिटी से राजनीति साइंस से बीए किया और आगे एमए भी किया। आगे उन्होंने वर्ष 2019 में पीएचडी भी की और वर्ष 2022 में प्रोफेसर के पोस्ट पर कार्यरत होंगे। कमल भागलपुर के मुंदीचक के निवासी हैं उनके पिता आजीविका चलाने के लिए चाय का दुकान स्टॉल चलाते हैं। उनकी आर्थिक स्थिति सही ना होने के कारण उन्होंने जिंदगी में कई विषम परिस्थितियों का सामना किया है। उन्होंने पीएचडी के उपरांत NOC लेकर प्रोफ़ेसर के वैकेंसी की काउंसलिंग की प्रक्रिया संपन्न की। -Kamal Kishore Mandal

मिली शुभकामनाएं

यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रमेश कुमार कमल को शुभकामनाएं देते हुए कहते हैं कि “टीएमबी यू के लिए यह गर्व की बात है एक चतुर्थवर्गीय कर्मचारी होते हुए बिहार राज्य विवि सेवा आयोग के योग्य बनना अपने आप में बड़ी उपलब्धि है।” हमें इस बात की खुशी है कि हमारे यूनिवर्सिटी का नाम रोशन हो रहा है। -Kamal Kishore Mandal

यह भी पढ़ें:-कभी उधार लेकर शुरु किया था बिजनेस, आज करोड़ों के टर्नओवर के साथ ही 4 कम्पनियों की मालकिन है

छात्र-छात्राओं के लिए बने रोल मॉडल

कमल को मिले इस उपलब्धि के बाद यहां के छात्र-छात्राओं में एक अलग ही चमक देखने को मिल रही है। यहां के छात्र-छात्रा यह कह रहे हैं कि हमें कमल से सीखने का आगे बढ़ना चाहिए तभी सफलता हासिल होगी। अगर युवा कमल के नक्शे कदम पर चलने तो सफलता निश्चित है। कमल के इस उपलब्धि के बाद परिवार में भी खुशी का माहौल है। –Kamal Kishore Mandal