Tuesday, May 24, 2022

मिलिए ख्वाजा मोइनुद्दीन से जो हर महीने 1200 अनाथ बच्चों को खिलाते हैं भरपेट खाना: इंसानियत की मिसाल

इस धरती पर आज भी भगवान का स्वरूप विराजमान है। आवश्यक नहीं है कि वह भगवान कृष्ण, अल्लाह या फिर वाहे गुरु हो। बल्कि भगवान वो है जो हर शख्स की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहता हो, भूखों को भर-पेट भोजन कराता हो और अशिक्षितों को शिक्षा देता हो। आज की हमारी यह कहानी एक ऐसे शख्स की है, जो अपने लगन और परिश्रम से हर माह 1200 अनाथ बच्चों को भोजन कराते हैं और उनकी जिंदगी में खुशियां भरने में कामयाब होते हैं।

ख्वाजा मोइनुद्दीन (Khwaja Moinuddin)

वह शख़्स है ख्वाजा मोइनुद्दीन (Khoja Moinuddin) जो आंध्रप्रदेश (Andhra Pradesh) से ताल्लुक रखते हैं। उनका जन्म मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ। वो एक शेफ है और बच्चों को अपने हांथ का बना भोजन खिलाते हैं। उन्होंने एमबीए की डिग्री हासिल की है पत्रकार के तौर पर लगभग 10 वर्षों तक तेलुगू चैनल पर कार्य किया है। इस जॉब से उन्हें दौलत और शोहरत दोनों मिली परंतु उन्हें एक कमी हमेशा खलती थी। उन्हें ऐसा लगता था कि वह इस कार्य के लिए नहीं बने हैं इसलिए उन्होंने इन सब को छोड़ने का निश्चय किया और अपने मन का कार्य करना प्रारंभ किया। -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

Khwaja Moinuddin foods hungry and orphan children

शुरू किया यूट्यूब

बहुत से लोग इस बात को नहीं जानते कि नवाब किचन (Nawab Kitchen) को प्रारंभ करने में उनके दो दोस्तों ने उनका सहयोग किया जिनका नाम श्रीनाथ रेड्डी और भगत रेड्डी है। वर्ष 2017 में जब मोइनुद्दीन ने अपने यूट्यूब चैनल को प्रारंभ किया तो वे दोस्त उनका वीडियो शूट किया करते थे और भी आज भी उनके साथ कार्य कर रहे हैं। मोइनुद्दीन सिर्फ खाना नहीं बनाना चाहते थे बल्कि उनकी चाहत कुछ और थी। वो यह सोंचते थे कि उनके द्वारा बनाए गए खाने स्वयं खाने के बजाय अन्य भूखे लोगों को खिलाया जाए। -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

सड़कों पर खाना बांटने का कार्य आरंभ किया

वह बताते हैं कि मैं सबसे अलग कार्य करना चाहता था। मेरा यह मकसद नहीं था कि मैं स्वयं खाना बनाऊं और स्वयं ना खाऊं। इसीलिए मैंने अधिक मात्रा में खाना बनाकर सड़कों पर बच्चों के बीच बांटने का निश्चय किया। इसके उपरांत उन्होंने विभिन्न प्रकार की रेसिपी बनाना प्रारंभ और अनाथ एवं गरीब बच्चों को बांटने लगें। वह सड़क किनारे बच्चों को खाना खिलाया करते थे और यह सोचते थे कि मैं क्यों ना यह खाना अनाथ आश्रम में लेकर जाऊँ जहां पर बच्चों के साथ कर्मचारी भी खाना खा सकें?? -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

Khwaja Moinuddin foods hungry and orphan children

खाना बनाने के लिए कोई ट्रेनिंग नहीं

ऐसा नहीं है कि उन्होंने खाना बनाने के लिए कोई प्रशिक्षण लिया है बल्कि वह ये कार्य शौक से किया करते हैं। वह बताते हैं कि मैं अपने घर पर लोगों को खाना बनाते देखा करता था और जब मैंने खाना बनाना प्रारंभ किया तो बार-बार इस कार्य को करने के कारण मुझे हर चीज का अंदाजा हो गया कि उसे कहां और कितनी मात्रा में डालनी है? -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

Khwaja Moinuddin foods hungry and orphan children

यह भी पढ़ें :- खुद के पैसों से करते हैं बेसहारा वृद्धों की मदद, वृद्धाश्रम भी चलाते हैं : जानिए 25 बुजुर्गों वाले वृद्धाश्रम की कहानी

संघर्ष से भरा सफर

उन तीनों दोस्तों ने मिलकर यह कार्य शुरू किया था जिसमें उन्होंने पांच वीडियो शूट किए तब तक उनके पास जो भी पैसे थे वह सब खत्म हो गए। मोइनुद्दीन ने अपनी जॉब छोड़ दी क्योंकि उनका ज्यादातर वक्त वीडियो शूट करने में ही गुजर रहा था और कंपनी में वह काम नहीं कर पा रहे थे। वह बताते हैं कि शुरुआती वीडियोज पर अच्छे खासे सब्सक्राइब मिले परंतु इससे कुछ अच्छा कलेक्शन नहीं हुआ। तब हमने सोंचा कि क्यों ना हम चैनल को बंद कर दें? वह बताते हैं कि मुझे इस बात का डर था कि कहीं मुझे अपने घर वालों से डांट नहीं सुननी पड़े क्योंकि वह नहीं जानते थे कि मैंने अपनी नौकरी छोड़ दी है। -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

Khwaja Moinuddin foods hungry and orphan children

सोंचा यूट्यूब चैनल बन्द करने का

वह बताते हैं कि अल्लाह भी उसी की मदद करता है जो अपने कार्य के लिए हमेशा तैयार रहता हो। मोइनुद्दीन ने अनाथों की सहायता की है तो भला अल्लाह उन्हें कैसे अकेला छोड़ सकते हैं। जब वह अपना चैनल बंद करने के बारे में सोंचने लगे तब उन्हें एक कॉल आया, इस कॉल में यह पूछा गया कि वह वीडियो अपलोड क्यों नहीं कर रहे। जब मोइनुद्दीन ने अपनी समस्या बताई तो उस शुभचिंतक ने उनसे कहा कि आप लोगों से डोनेशन के लिए बोल सकते हैं। मोइनुद्दीन ने यह सोचा कि आखिर लोग यूट्यूब चैनल के लिए क्यों डोनेट करेंगे परंतु उन्होंने इसके विषय में सोचा और जो 5000 स्वयं के पास थे उसके उपयोग से वीडियो बनाया और फिर अपलोड करते हुए डोनेशन एवं सब्सक्राइब करने के लिए लोगों से बोला। -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

कभी नहीं लाते बचा हुआ खाना लौटाकर

अब उनके मेल पर मैसेज आने लगे जिसमें लोगों ने उनकी मदद के बारे में कहा। अब नवाब किचन डोनेशन एवं सब्सक्राइबर के जरिए ही प्रतिदिन लगभग 40 अनाथ बच्चों को भरपेट भोजन कराता है। वह प्रति माह विभिन्न अनाथालय के लगभग 12 बच्चों को खाना खिलाते हैं। मोइनुद्दीन बताते हैं कि मैं हमेशा ही अधिक मात्रा में खाना बनाता हूं और बच्चों को खिलाने के लिए निकल जाता हूं। मैं कभी भी बचा हुआ खाना लौटा कर नहीं लाता बल्कि उधर ही गरीबों को खिला देता हूँ।
-Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children

Khwaja Moinuddin foods hungry and orphan children

2.49 मिलियन सब्सक्राइबर्स हैं

अगर आप इंस्ट्रा एवं यूट्यूब चलाते होंगे तो आपने मोइनुद्दीन के वीडियो को अवश्य देखे होंगे। उनका यूट्यूब पर नवाब किचन फूड फॉर ऑल ( Nawab Kitchen Food For all) नाम से चैनल है। इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि वह किस तरह भोजन बनाते हैं ताकि अनाथ लोगों को खिला सके। उनके यूट्यूब चैनल पर लगभग 2.49 मिलीयन सब्सक्राइबर्स है। वहीं इनके वीडियोस को लाखों लोग देखते हैं। वह सप्ताह में 2 और 3 वीडियोज अपने चैनल पर अपलोड करते रहते हैं। -Khwaja Moinuddin, through his YouTube channel Nawab Kitchen Food For all, provides food to 1200 children