Friday, December 4, 2020

5 किलो प्लास्टिक की जगह 1 लीटर सेनेटाइजर और मास्क, पर्यावरण के साथ ही कोरोना से जंग की तैयारी: Plastic Bank

प्लास्टिक से होने वाले नुकसान को हम बहुत अच्छे से जानते हैं। प्लास्टिक हमारे पृथ्वी और पर्यावरण को कितना प्रदूषित करता है, इससे हम सभी भली-भांति अवगत हैं। प्लास्टिक के विघटन में बहुत समय लगता है जो हमें और आने वाली पीढ़ी के लिए बेहद नुकसानदायक है। इसलिए जितना हो सके, हम प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करें। प्लास्टिक के कम यूज के लिए पश्चिम् बंगाल ने “प्लास्टिक बैंक” का निर्माण किया है। इस कोरोना काल में यह बैंक लोगों से 5 किलो प्लास्टिक और पौधे के बदले आपको 1 लिटर सैनिटाइजर के साथ 2 मास्क रिटर्न कर रही है।

यह कार्य जो पश्चिम बंगाल (West Bengal) की “प्लास्टिक बैंक” ( Plastik Bank) कर रही है उससे वह इको-ब्रिक बनाएगी और पौधों को नदी के किनारे लगाया जाएगा जिससे पर्यावरण संतुलन कुछ हद तक ठीक रहे। इस मुहिम में लगभग बहुत से लोगों ने भाग लिया है। यह बैंक आर्थिक स्थिति से कमजोर लोगों के लिए बनाया गया है जिनके पास इस कोरोना काल मे मास्क और सैनिटाइजर खरीदने के लिए पैसे नहीं है वह इस बैंक की मदद से मास्क और सैनिटाइजर ले जा सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति के पास प्लास्टिक या का पौधा नहीं है वह व्यक्ति मात्र 49 रुपये मे प्लास्टिक बैंक से सैनिटाइजर और मास्क ले जा सकता है।

यह भी पढ़े :-

इस स्कूल में फीस के बदले प्लास्टिक का कचड़ा लिया जाता है और कचड़े से स्ट्रक्चर बनाना सिखाया जाता है

Representative Image

प्लास्टिक बैंक (Plastik bank) के कार्य से लोग बहुत प्रसन्न है। लोग जिस तरह से कोरोना वायरस से परेशान हैं, उनके लिए इस बैंक की स्थापना ने उनके चेहरे पर मुस्कान ला दी है। ज़्यादातर लोगों के घरों में प्लास्टिक पड़े हैं जिसे लेकर लोग प्लास्टिक बैंक के पास जा रहे हैं और कोरोना से लड़ने के लिए मास्क और सैनिटाइजर लेकर आ रहें है।

प्लास्टिक बैंक समिति के जनरल सेक्रेटरी “संदीपन सरकार” (Sandeepan Sarkar) ने बताया है कि यह पौधे और प्लास्टिक लेकर सैनिटाइजर के साथ मास्क रिटर्न करने का काम कोरोना महामारी तक चलता रहेगा। जब तक यह महामारी खत्म नहीं होगा तब तक लोग इसका एक्सचेंज औफर के तौर पर इस्तेमाल करेंगे। हमारी इस पहल से इको-फ्रेंडली होने के साथ-साथ कोरोनावायरस से लड़ने में लोगों को सहायता मिलेगी।

इस प्लास्टिक बैंक (Plastik Bank) का कुछ ही दिनों में लगभग 100 से अधिक ग्राहक लाभ उठा चुके हैं। जो कार्य प्लास्टिक बैंक ने किया है वह सराहनीय है इसके लिए The Logically उन्हें सलाम करता है।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

अपने घर मे 200 पौधे लगाकर बनाई ऐसी बागवानी की लोग रुककर नज़ारा देखते हैं: देखें तस्वीर

बागबानी करने का शौक बहुत लोगो को होता है और बहुत लोग करते भी हैं और उसकी खुशी तब दोगुनी हो जाती है जब...

यह दो उद्यमि कैक्टस से बना रहे हैं लेदर, फैशन के साथ ही लाखों जानवरों की बच रही है जान

लेदर के प्रोडक्ट्स हर किसी को अट्रैक्ट करते हैं. फिर चाहे कपड़े हो या एसेसरीज हम लेदर की ओर खींचे चले जाते है. पर...

गरीब और जरूरतमंद महिलाओं को दे रही हैं नौकरी, लगभग 800 महिलाओं को सिक्युरिटी गार्ड की ट्रेनिंग दे चुकी हैं

हमारे समाज मे पुरुष और महिलाओ के काम बांटे हुए है। महिलाओ को कुछ काम के सीमा में बांधा गया हैं। समाज की आम...

पुराने टायर से गरीब बच्चों के लिए बना रही हैं झूले, अबतक 20 स्कूलों को दे चुकी हैं यह सुनहरा सौगात

आज की कहानी अनुया त्रिवेदी ( Anuya Trivedi) की है जो पुराने टायर्स से गरीब बच्चों के लिए झूले बनाती हैं।अनुया अहमदाबाद की रहने...