Sunday, October 25, 2020

पति ने महिला को एक वर्षो तक टॉयलेट में बंद रखा, उसे महिला अफसर रजनी गुप्ता की टीम द्वारा रेस्क्यू किया गया

घरेलू हिंसा हर समाज में मौजूद है। महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा की खबरें हमेशा सुनने को मिलती है। 21 वीं सदी में भी जब हम चांद और मंगल तक पहुंच गए हैं, महिलाओं के खिलाफ हो रहे घरेलू हिंसा में कमी नहीं आई है। यह समस्या अभी भी बनी हुईं है। हालांकि देश में पत्नियों पर पतियों द्वारा हिंसा करने के खिलाफ कानून बनाए गए हैं लेकिन कानून बनने के बाद भी महिलाओं के प्रति हो रहें हिंसा अब भी कायम हैं। कई महिलाएं घरेलू हिंसा की शिकार होती हैं। हमारे देश में जहां एक तरफ नारी को लक्ष्मी, सरस्वती और दूर्गा का रूप माना जाता है तो वहीं दूसरी तरफ उसके साथ दरिंदगी जैसा व्यवहार किया जाता है।

हाल ही में एक ऐसी हैरान और अचंभित करने वाली घटना सामने आई है जिसमें एक पति ने अपनी सारी हदे पार कर हैवानियत का बहुत डरावना प्रदर्शन किया है जो कि बेहद शर्मनाक हरकत है।

यह घटना हरियाणा (Hariyana) के रिशरी गांव की है। एक पति ने अपनी पत्नी को 1 वर्ष से भी अधिक वक्त तक शौचालय के अन्दर कैद कर रखा था। न्यूज एजेंसी ANI की रिपोर्ट के अनुसार, महिला सुरक्षा और बाल-विवाह निषेध अधिकारी रजनी गुप्ता (Rajni Gupta) ने अपनी टीम के साथ जाकर शौचालय में कैद महिला को 14 अक्टूबर को बचाया। रजनी गुप्ता ने बताया, “जैसे ही मुझे सूचना मिली कि एक महिला को उसके पति ने एक वर्ष से अधिक समय से टॉयलेट में बंद कर रखा है, मैं अपने दल के साथ घटना स्थल पर पहुंची। वहां हमने पाया कि यह घटना पूरी तरह से सच है। ऐसा लगता है कि जैसे महिला ने बहुत दिन से कुछ नहीं खाया है।”

बाल-विवाह निषेध और महिला सुरक्षा अधिकारी रजनी गुप्ता ने आगे कहा, “यह बताया जा रहा है कि महिला मानसिक रूप से ठीक नहीं है, जो गलत है।” उन्होंने उस महिला से बात की और स्पष्ट किया कि वह मानसिक तौर पर अस्थिर नहीं है। फिर उन्होंने यह भी कहा, “फिलहाल पूर्ण रूप से इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकती कि वह मानसिक रूप से अस्थिर है या नहीं, लेकिन वह शौचालय के अन्दर बंद की गई थी।” अधिकारी रजनी गुप्ता ने बंद महिला को शौचालय से बाहर निकाला और उसके बाल धुलें। इस घटना के बारे में पुलिस में शिकायत दर्ज करा दिया गया है। पुलिस अपने अनुसार कार्यवाही करेगी।

पीड़िता के पति नरेश ने यह दावा किया है कि उसकी पत्नी दिमागी रूप से स्थिर नहीं है। नरेश ने बताया कि उसकी पत्नी का दिमागी संतुलन ठीक नहीं था। उसको बैठने के लिये कहा जाता है तो वो वहां नहीं बैठती है। डॉ. से दिखाया गया है लेकिन उसकी स्थिति में कोई सुधार या बदलाव नहीं हुआ है।

इस मामले के सम्बंध में पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि, रजनी गुप्ता ने उस गांव में जाकर महिला को उसके पति के दरिंदगी से बचाया है। इसके साथ ही कहा कि मामले की जांच के बाद कार्यवाही शुरु होगी।

Shikha Singh
Shikha is a multi dimensional personality. She is currently pursuing her BCA degree. She wants to bring unheard stories of social heroes in front of the world through her articles.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

एक ऐसी गांव जो ‘IIT गांव’ के नाम से प्रचलित है, यहां के हर घर से लगभग एक IITIAN निकलता है

हमारे देश में प्रतिभावान छात्रों की कोई कमी नहीं है। एक दूसरे की सफलता देखकर भी हमेशा बच्चों में नई प्रतिभा जागृत...

91 वर्ष की उम्र और पूरे बदन में दर्द, फिर भी हर सुबह उठकर पौधों को पानी देने निकल पड़ते हैं गुड़गांव के बाबा

पर्यावरण के संजीदगी को समझना सभी के लिये बेहद आवश्यक है। एक स्वस्थ जीवन जीने के लिये स्वच्छ वातावरण में रहना अनिवार्य...

सोशल मीडिया पर अपील के बाद आगरे की ‘रोटी वाली अम्मा’ की हुई मदद, दुकान की बदली हालात

हाल ही में "बाबा का ढाबा" का विडियो सोशल मिडिया पर काफी वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने के बाद बाबा के ढाबा...

राजस्थान के प्रोफेसर ज्याणी मरुस्थल को बना रहे हैं हरा-भरा, 170 स्कूलों में शुरू किए इंस्टिट्यूशनल फारेस्ट

जिस पर्यावरण से इस प्राणीजगत का भविष्य है उसे सहेजना बेहद आवश्यक है। लेकिन बात यह है कि जो पर्यावरण हमारी रक्षा...