Saturday, July 31, 2021

सोशल मीडिया पर अपील के बाद आगरे की ‘रोटी वाली अम्मा’ की हुई मदद, दुकान की बदली हालात

हाल ही में “बाबा का ढाबा” का विडियो सोशल मिडिया पर काफी वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने के बाद बाबा के ढाबा पर लोग मदद करने के लिए पहुंचने लगे। उसके तुरंत बाद ही एक और “रोटी वाली अम्मा” का विडियो वायरल हुआ। इस वीडियो में दिखाया गया कि अम्मा 15 वर्ष से सड़क किनारे चूल्हे की सोंधी रोटी बेचकर अपना गुजारा करती हैं। अब उनकी मदद करने के लिये लोग भी आ रहें हैं, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार हो रहा है।

आइये जानते है उनके बारे में और लोगों ने उनकी मदद कैसे की

रोटी वाली अम्मा का नाम भगवान देवी है। उनके पति का देहांत ही चुका है। उनकी उम्र 80 वर्ष है। अपना जीवन चलाने के लिये 81 वर्ष के उम्र में सड़क के किनारे लोगों को रोटियां बनाकर बेचती है। अम्मा का वीडियो वायरल होने के बाद उनकी स्थिति बदल गईं है। लोग उनकी सहायता करने के लिये आगे आ रहें हैं। अब जनसहयोग से अम्मा फुटपाथ से उठकर उसी जगह एक नया सजा-धजा ठेला लगा ली हैं और अपने ढाबे का काम कर रही है। अम्मा के ढाबा पर अब शहर वालों की भीड़ भी अधिक संख्या में उमड़ रही है। हर कोई रोटी वाली अम्मा के हाथ से बनी चूल्हे पर की रोटी और सब्जी का स्वाद लेने पहुंच रहें हैं।

Roti wali amma

भगवान देवी अपना गुजारा करने के लिये 15 वर्षों से आगरा के सेंट जोन्स चौराहे के पास एमजी रोड पर चूल्हे की सोंधी रोटियां बेचती हैं। वह रोटी वाली अम्मा के नाम से मशहूर है। उनके 2 बेटे हैं जो अम्मा को अपने साथ नहीं रखते हैं। जीवन यापन करने के लिये अम्मा रोटी बेचती हैं। अम्मा के ढाबे पर एक प्लेट चावल, दाल की कीमत सिर्फ 10 रूपए है। इसके साथ ही 4 रोटियां और 2 प्रकार की सब्जी की कीमत 20 रुपये है। 24 घंटे पहले तक अम्मा को दस-बीस रुपये की आमदनी करना भी बहुत कठिन था। कोरोनाकल में उनके पास एक दो ही ग्राहक जाते थे। कोवि’ड-19 की वजह से ग्राहकों की संख्या में भारी गिरावट आई थी। ग्राहकों के नहीं आने से अम्मा बहुत परेशान थी। उनका जीवन गुजारना बहुत कष्टमय हो गया था। लेकिन जनसहयोग से अब आशा की नई किरण जगी है।

न्यूज 18 के अनुसार रोटी वाली अम्मा अब बेहद खुश है। अम्मा ने बताया कि 2 घंटे में भी 400 रुपये से अधिक की रोटियां बिक चुकी हैं। कार से घुमने वाले भी अम्मा के हाथ से चूल्हे पर सोंधी हुईं रोटियां खरीद कर ले जा रहे है। कई लोग तो ऐसे भी है जो सुबह-शाम अम्मा के हाथ की बनी रोटियां ही खाते हैं। अम्मा का ढाबा चलने के बाद अब उनके चेहरे पर फिर खुशी की लहर उठ गईं है।

देखें वीडियो

The Logically उन सभी लोगों को धन्यवाद करता है जो ऐसे ज़रूरतमंद लोगों की मदद कर रहें हैं। साथ ही अपने पाठकों से अनुरोध करता है कि अगर आपको भी ऐसे ज़रूरतमंद लोग दिखें तो आप उनकी मदद ज़रूर करें।