Saturday, July 31, 2021

दिल्ली की रुचिका अपने छत पर करती हैं 20 तरह की सब्जी और औषधियों की खेती, लोगों को भी सिखाती हैं यह तरीका

हमारी संस्कृति में महिलाओं को देवी का दर्जा मिला है। चाहे वह मां के रूप में हो, बहन, पत्नी, बेटी या कोई अन्य स्वरूप। महिलाओं को अनपूर्णा भी कहा गया है कि क्योंकि वे खुद भोज्य को तैयार कर अपनों को खिलातीं हैं। आज की यह कहानी एक गृहणी की है। जो अपने छत पर सब्जियों और औषधियों को उगातीं हैं और दूसरों को भी यह सिखाती हैं।

यह हैं रुचिका शर्मा

Ruchikaa Sharma दिल्ली (Delhi) की निवासी हैं और एक गृहिणी (Housewife) है। ये अपने अतिरिक्त समय और सामाजिक मीडिया का उपयोग कर अपने दोस्तों और परिवार के बीच जैविक और नैतिक बागवानी को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहीं हैं। यह प्रकृति की सुंदरता से प्रेरित हैं। साथ ही हमेशा से ही धरती माता को समय और योगदान देना चाहती थी इसलिए इन्होंने बागवानी को तैयार किया ताकि इन्हें अपने वास्तविक उद्देश्य की प्राप्ति हो। इन्होंने अपने परिवार के लिए बड़े पैमाने पर उत्पादित, अनैतिक और अस्वास्थ्यकर भोजन जो हानिकारक कीटनाशकों और अन्य अप्राकृतिक रसायनों के साथ उगाया गया खाद्य पदार्थ को खिलाना पसंद नहीं करतीं हैं। यह खेती इसलिए करतीं हैं कि यह चाहती हैं कि इनके बच्चे और परिवार स्वस्थ और स्वच्छ भोजन करें। इसलिए यह बगीचे से ताजा सब्जियों से भोजन पकाने के लिए बहुत संतोषजनक है।

2200 वर्ग फिट छत पर उगाती हैं सब्जियों और औषधियों को

रुचिका के छत का बगीचा इस समय 2200 वर्ग फीट है। यह मौसमी सब्जियाँ जैसे कि पालक, मेथी, ब्रोकोली, रॉकेट की पत्तियाँ, टमाटर आदि सर्दियों और गर्मियों के कद्दू, बोतल लौकी, करेला, भिंडी, खीरा आदि को उगाती हैं। साथ ही जड़ी-बूटियाँ भी उगाती हैं। जैसे तुलसी, मेंहदी, अजवायन की कई किस्में, अजमोद, अजवायन, मरजोरम, ऋषि, नीम और औषधीय पौधे जैसे तुलसी, पुदीना, लेमनग्रास, करी पत्ते, हल्दी आदि।

Ruchika Sharma Home Gardening

मिट्टी को परीक्षण कर किया तैयार

यह मिट्टी में घर के बने खाद और गोबर से कार्बनिक पोषक तत्वों को तैयार करतीं हैं। यह मिट्टी द्वारा बेहतर पोषक तत्वों के अवशोषण के लिए फसल के रोटेशन और मिट्टी को नियमित रूप से ढीला करने का अभ्यास भी करतीं हैं। इन्होंने मिट्टी में पीएच स्तर, पोटेशियम, फास्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम और सल्फर की जांच के लिए मिट्टी परीक्षण किट का उपयोग भी किया है।

जैविक कीटनाशक विधि

कीट प्रबंधन के लिए यह हर 10 दिनों के बाद नीम के तेल का छिड़काव करतीं हैं। यह अपने घर पर कीटनाशक बनाने के लिए लहसुन, मिर्च और नीम की पत्तियों का उपयोग करतीं हैं। यह अपने बायोमीज़ को घरेलू प्याज, लहसुन, मिर्च, नीम आदि का उपयोग करके भी बनातीं हैं। इसे बनाने की विधि पहले बताए गए जैविक कीटनाशक से थोड़ी अलग है।

Ruchika Sharma Terrace Gardening

खुद रखतीं हैं बीज, सोशल साइट पर मुफ़्त में देतीं हैं सैम्पल

यह अपने बीजों का उपयोग करतीं हैं क्योंकि उन्हें हर मौसम में संरक्षित कर रखतीं हैं, या कभी-कभी स्थानीय किसानों से भी बीज खरीदतीं हैं। यह अपने परिवार और दोस्तों के साथ अपने बीज साझा करतीं हैं। इसके अलावा अपने इंस्टाग्राम फॉलोअर्स को मुफ्त में सैंपल भी देती हैं।

जगह की कमी है, फलों को नहीं उगा पाती

रुचिका के पास सबसे बड़ी बाधा इनकी सीमित जगह है क्योंकि इतने जगह में यह फलों के पौधों आदि विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को नहीं उगा पाती। इसके अलावा कभी-कभी गर्मियों में 112 डिग्री फारेनहाइट में काम करना मुश्किल हो जाता है और क्षेत्र में पानी की कमी भी होती है।

महसूस करती हैं पौधों को

रुचिका के लिए सबसे बड़ा इनाम यह जानने की भावना है कि पौधे इनके जागने पर इनका इंतजार कर रहे होते हैं। यह बताती हैं कि अपने पौधे से बहुत प्यार करती हैं और पौधे इनसे बात भी करते हैं। साथ ही ये पौधे मुझे खुशी देते हैं। जब मैं अपने पौधों के साथ होती हूं तो मैं स्वस्थ महसूस करती हूं। खुले आसमान, पौधे और मिट्टी मेरी भावनाओं को संतुलित करने में मेरी मदद करते हैं।

दूसरों को भी बताती हैं तरीके, मुफ्त ऑनलाइन जानकारी भी देतीं हैं

एक संचार समूह हैं जहां दूसरों को सिखाती हैं कि बायोएंजाइम कैसे बनाएं और जैविक बागवानी तकनीकों का अभ्यास कैसे करें??? अभी कोविड-19 के कारण मुफ्त ऑनलाइन जानकारी सत्र आयोजित कर रहीं हैं। अपने पड़ोसियों और दोस्तों के पास जाकर उन्हें बताती हैं कि अपने खाने के लिए कैसे खेती करें। साथ ही दोस्तों, रिश्तेदारों, पड़ोसियों और जो भी इसके लिए पूछता है उसे मुफ्त अंकुर और जैविक सब्जियों के नमूने भी देती हैं। यह अपने स्थानीय मंदिर को अतिरिक्त उत्पादन दान भी हमेशा करती आ रही हैं। इनका उपयोग मंदिर के सज्जन गरीबों को खिलाने के लिए करतें हैं।

इस लिंक पर क्लिक कर आप रुचिका शर्मा का रूफ गार्डन देख सकते हैं और उनसे खेती के तरीके सीख सकते हैं

एक गृहणी होने के साथ खुद के लिए सब्जियों और औषधियों को उगाने ओर दूसरों को भी यह सीखाने के लिए The Logically Ruchikaa को सलाम करता है।