Sunday, October 25, 2020

अपनी छोटी कद के बावजूद भी कठिन मेहनत कर बन गए सेना में अफसर , करेंगे देश की सेवा

हर भारतीय युवा के दिल में सेना में भर्ती होने का जज्बा बचपन से ही रहता है लेकिन कुछ लोग अपनी शारीरिक अक्षमता के कारण भारतीय सेना में योगदान देने से वंचित रह जाते हैं , लेकिन मिजोरम के इस युवक के साथ कुछ अनोखा हुआ जब वह अपनी छोटी कद के बावजूद भी भारतीय सेना मैं ऑफिसर बन गया।

भारतीय सेना के नियमावली के अनुसार सेना में ऑफिसर बनने की न्यूनतम हाइट 157 सेंटीमीटर है या 5.15 फीट है । यह मापक भारतीय सेना द्वारा निर्धारित किया गया यद्यपि इससे भी कम ऊंचाई होने के बाद भी मिजोरम के इस युवा को भारतीय सेना में ऑफिसर बनने का मौका मिला।

The new Indian express के अनुसार मिजोरम के Lalmachhuana , भारतीय सेना में अपने छोटे कद के बावजूद भी ऑफिसर बन पाए और वह भारतीय सेना का आर्टिलरी रेजीमेंट ज्वाइन किए।

Lalmachhuana मिजोरम की राजधानी आइज़वाल से सम्बद्ध रखते हैं । आइज़वाल के एक नागरिक के अनुसार

वह छोटे हो सकते हैं लेकिन उनका हौसला किसी से कम नहीं हो सकता ।

भारतीय सेना के कानून के अनुसार उत्तरी पूर्वी भारत के नागरिकों को सेना में भर्ती होने के लिए उनके कद में छूट का प्रावधान है । जिसके अनुसार उत्तरी पूर्वी भारत के आदिवासी वर्ग के लोगों को भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए न्यूनतम हाइट 152 सेंटीमीटर की ही जरूरत है इसका फायदा Lalmachhuana ने उठाया।




मिजोरम के मुख्यमंत्री ने लेफ्टिनेंट Lalmachhuana को अपने ट्विटर हैंडल से शुभकामना सन्देश दिया और कहा कि Lalmachhuana ने मिजोरम का सर गर्व से ऊंचा किया है

Mizoram is proud of our very own Lt. Lalhmachhuana
s/o Lalsangvela from Ramhlun ‘N’ who was recently commissioned as an officer in the reputed Indian Army under the famed Artillery Regiment.#PassingOutParade #IndianArmy #ArtilleryRegiment#MizoramforIndia pic.twitter.com/puwtncPbtl

— Zoramthanga (@ZoramthangaCM) June 14, 2020

Lalmachhuana के जज्बे को Logically नमन करता है और भारतीय सेना में इनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है !

News Desk
तमाम नकारात्मकताओं से दूर, हम भारत की सकारात्मक तस्वीर दिखाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

एक ऐसी गांव जो ‘IIT गांव’ के नाम से प्रचलित है, यहां के हर घर से लगभग एक IITIAN निकलता है

हमारे देश में प्रतिभावान छात्रों की कोई कमी नहीं है। एक दूसरे की सफलता देखकर भी हमेशा बच्चों में नई प्रतिभा जागृत...

91 वर्ष की उम्र और पूरे बदन में दर्द, फिर भी हर सुबह उठकर पौधों को पानी देने निकल पड़ते हैं गुड़गांव के बाबा

पर्यावरण के संजीदगी को समझना सभी के लिये बेहद आवश्यक है। एक स्वस्थ जीवन जीने के लिये स्वच्छ वातावरण में रहना अनिवार्य...

सोशल मीडिया पर अपील के बाद आगरे की ‘रोटी वाली अम्मा’ की हुई मदद, दुकान की बदली हालात

हाल ही में "बाबा का ढाबा" का विडियो सोशल मिडिया पर काफी वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने के बाद बाबा के ढाबा...

राजस्थान के प्रोफेसर ज्याणी मरुस्थल को बना रहे हैं हरा-भरा, 170 स्कूलों में शुरू किए इंस्टिट्यूशनल फारेस्ट

जिस पर्यावरण से इस प्राणीजगत का भविष्य है उसे सहेजना बेहद आवश्यक है। लेकिन बात यह है कि जो पर्यावरण हमारी रक्षा...