Sunday, October 24, 2021

महिलाओं की मदद के लिए योगी सरकार का अहम फैसला, हर पुलिस थाने में होगी Women help Desk

हमारे देश में हर व्यक्ति का नजरिया पहले से बहुत बदल चुका है। लेकिन एक बात है जो इस मॉर्डन जेनरेशन में ज्यादा बढ़ती नजर आ रही है। पता नहीं क्यों इतने पढ़े-लिखे होने के बावजूद भी लोग महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार कर रहें हैं। बोला जाता है बेटी को अगर बढ़ाना है तो उसे घर से बाहर निकलने दीजिए ताकि वह इस दुनिया को देख और उसे समझ सके। लेकिन हम इस बात से परिचित हैं कि किस तरह लड़कियों के साथ छेड़खानी और रेप जैसी समस्याएं बढ़ रही हैं। इस कारण लड़कियों की जान भी चली जा रही है। लड़कियों के सुरक्षा और शिकायत दर्ज करने के लिए उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने पुलिस स्टेशन पर महिला डेस्क पुलिस तैनात करने कि घोषणा की है।

योगी सरकार हर पुलिस स्टेशन को महिला हेल्प डेस्क बनाने और इसके अलावा महिला पुलिसकर्मियों को महिलाओं की शिकायतें दर्ज करने और उनकी सहायता करने के लिए पुलिस स्टेशनों पर तैनात करेगी।

महिला हेल्प डेस्क

एक रिपोर्ट के अनुसार यह पता चला है कि उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने राज्य के हर पुलिस स्टेशन (Police Station) में महिला हेल्प डेस्क (Women Help Desk) स्थापित करने का आदेश दिया है, जिसमें दावा किया गया है कि राज्य सरकार महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान के लिए प्रतिबद्ध है। आदेशों के बाद, राज्य सरकार ने 17 अक्टूबर से महिला सहायता डेस्क स्थापित करने का निर्णय लिया। यह निर्णय महिलाओं को सशक्त बनाने और लड़कियों की सुरक्षा के प्रति जनता को जागरूक करने के लिए है। जो ‘मिशन शक्ति’ अभियान के शुभारंभ के साथ मैच करता है। सरकार महिला हेल्प डेस्क के अलावा महिलाओं की शिकायतें दर्ज करने और उनकी सहायता के लिए महिला पुलिसकर्मियों को भी पुलिस स्टेशनों पर तैनात करेगी।

योगी आदित्यनाथ ने दिया आदेश

मिशन शक्ति (Mission Shakti) अभियान, 17 अक्टूबर से शुरू होने वाले ‘शरद नवरात्रि’ के अवसर पर शुरू होने की उम्मीद है, जो अप्रैल 2021 में ‘बसन्तीय नवरात्रि’ तक जारी रहेगा। जिसमें महिलाओं और लड़कियों को इस अभियान के दौरान आत्मरक्षा तकनीकों के बारे में शिक्षित किया जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिलाधिकारियों को प्रभावी ढंग से मिशन शक्ति को लागू करवाना और निगरानी करवाना है। मुख्यमंत्री ने राज्य पुलिस बल को व्यक्तिगत रूप से महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध के स्थल का दौरा करने और समय पर जांच सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध की बेहतर रोकथाम के लिए घोषणाओं और उपायों की श्रृंखला जल्द ही राज्य की पुलिस द्वारा बलपूर्वक हाथरस सामूहिक बलात्कार के मामले को गलत तरीके से पेश करने के लिए आया है। महिला सुरक्षा और सशक्तीकरण पर कई कार्यक्रम ग्राम पंचायतों, स्कूलों, कॉलेजों और सरकारी कार्यालयों के अलावा अन्य स्थानों पर आयोजित किए जाएंगे। महिलाओं की सुरक्षा की आवश्यकता पर निजी कैब संचालकों को भी जागरूक किया जाएगा। राज्य सरकार ने पहले गुलाबी बूथ स्थापित किए थे और रात में एकल महिलाओं को सुरक्षित घर छोड़ने की व्यवस्था की थी।

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा महिलाओं की सुरक्षा प्रदान करने हेतु उठाया गया यह कदम प्रशंसनीय है।