Wednesday, December 2, 2020

इंजीनियरिंग के बाद जॉब ठुकरा कर खेती शुरू किए, फूल की खेती शुरू कर लाखों में फ़ायदा कमा रहे हैं

खेती करना और उसके गुण सीखना भी एक ऐसी कला है जो हमारे देश के युवा, अच्छी खासी नौकरी करने वाले व्यक्ति, महिलाएं, बच्चे सभी को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। वैसे तो पढ़ाई हर कोई अधिक पैसे कमाने और एक कामयाब इंसान बनने के लिए करता है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति अपनी नौकरी छोड़ खेती की तरफ रुख मोड़े तो लोग उसे बहुत भला बुरा कहते हैं। फिर भी अपनी मिट्टी को महत्व देना और खेती करना जिससे वह सभी के लिए प्रेरणा बन सके, बहुत बड़ी बात होती है। आज की यह कहानी एक ऐसे इंसान की जिन्होंने अपनी मोटी रकम वाली नौकरी को छोड़ खेती का शुभारंभ किया और सफलता का परचम लहराया।

आलोक कुमार

बिहार (Bihar) के नालन्दा (Nalanda) के निवासी आलोक कुमार (Alok Kumar) हैं। उन्होंने एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी अपनी शिक्षा हासिल की। वर्ष 2016 में उनको जॉब मिला। उस जॉब से इनका पेमेंट 30,000 था। आलोक को यह महसूस हुआ कि वह जितना कार्य कर रहे हैं उससे उन्हें उसके अनुसार पैसे नहीं मिल रहा। तब उन्होंने निश्चय किया कि वह अपने गांव लौट मेहनत करेंगे और उन्हें अधिक से अधिक लाभ प्राप्त होगी। तब वह गांव लौट आए।

 flower farming

शुरू की खेती

वह अपने गांव तो लौट आई लेकिन उन्होंने यह मन बना लिया कि वहां ट्रेडिशनल खेती नहीं करेंगे और ना ही उसमें अपना पूंजी फसाएंगे। तब उन्होंने जबेरा की फूल की खेती का शुभारंभ किया। अधिकतर जबेरा की फूल का प्रयोग घर के डेकोरेशन और बागानों में किया जाता है साथ ही उन्होंने पिसी शिमला मिर्च को भी अपने खेतों में उगाया। इतना ही नहीं उन्होंने अपने खेतों में पपीते के साथ अन्य पौधों को भी लगाया और उसमें उन्होंने अपनी मेहनत से सोना ऊपजाया।

यह भी पढ़ें :- घर के अपशिष्ट कचड़ों से खाद बनाकर करती हैं जैविक खेती, आर्गेनिक सब्जी उगाने के साथ ही दूसरों को भी तरीके सिखाती हैं

20 लाख का आमदनी

आलोक ने जिस तरह मेहनत किया उस तरह उन्हें फल भी मिला। वह अपने खेतों में लगभग 10-12 लाख रुपये लगाते हैं और इसके बदले 20 लाख से अधिक वह हर सालों में अपनी इस खेती से कमा रहे हैं। मतलब कि वह मिट्टी से सोना उगाने का कार्य कर रहे हैं।

अच्छी नौकरी छोड़ गांव अपनाकर आलोक जी ने खेती में जिस तरह सफलता हासिल की वह अन्य लोगों के लिए प्रेरणाप्रद है। The Logically आलोक जी और उनके प्रयास को सलाम करता है।

Khusboo Pandey
Khushboo loves to read and write on different issues. She hails from rural Bihar and interacting with different girls on their basic problems. In pursuit of learning stories of mankind , she talks to different people and bring their stories to mainstream.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

पुलवामा शहीदों के नाम पर उगाये वन, 40 शहीदों के नाम पर 40 हज़ार पेड़ लगा चुके हैं

अक्सर हम सभी पेड़ से पक्षियों के घोंसले को गिरते तथा अंडे को टूटते हुए देखा है। यदि हम बात करें पक्षियों की संख्या...

ईस IAS अफसर ने गांव के उत्थान के लिए खूब कार्य किये, इनके नाम पर ग्रामीण वासियों ने गांव का नाम रख दिया

ऐसे तो यूपीएससी की परीक्षा पास करते ही सभी समाज के लिए प्रेरणा बन जाते है पर ऐसे अफसर बहुत कम है जिन्होंने सच...

गांव के लोगों ने खुद के परिश्रम से खोदे तलाब, लगभग 6 गांवों की पानी की समस्या हुई खत्म

कुछ लोग कहते हैं कि तीसरा विश्वयुद्ध पानी के लिए लड़ा जाएगा। पता नहीं इस बात में सच्चाई है या नहीं, पर एक बात...

5 बार UPSC में असफल होने के बाद भी प्रयासरत रहे, 6ठी बार मे परीक्षा निकाल बन चुके हैं IAS: प्रेरणा

यूपीएससी परीक्षा हमारे देश में सबसे कठिन परीक्षा होती है। इस परीक्षा में कुछ लोग पहले ही अटेंपट में सफलता हासिल कर लेते हैं।...