Wednesday, December 2, 2020

न्यूयॉर्क से गांव लौटकर इस जोड़े ने आर्गेनिक खेती शुरू किया, 50 एकड़ की जमीन में आर्गेनिक सब्जियां और अनाज उपजाते हैं

आज जहा युवाओ को शहर की चका-चौंध की ज़िंदगी पसंद आती हैं और सब गांव छोड़ शहर का रुख कर रहे हैं वही कुछ ऐसे भी हैं जो शहर के चमक-धमक छोड़ गांव की ज़िंदगी मे वापस आ रहे हैं। कुछ ऐसे ही न्यू यॉर्क को छोड़ कर अंजलि रुद्राराजु करियप्पा(Anjali rudraraju cariappa)गांव की परिवेश में लौट आयी। अंजलि रुद्राराजु और कबीर करियप्पा ऐसे दंपत्ति हैं जो शहर को छोड़ गांव में अपना जीवन बसर कर रहे हैं। जहा कबीर करियप्पा(kabir cariappa) का बचपन ही खेतो में गुज़रा वही अंजलि रुद्राराजु शहर में पली-बढ़ी। कबीर के माता-पिता जुली और विवेक करियप्पा(Juli and vivek cariappa)तीन दशक से जैविक खेती कर रहे हैं। इसी का प्रभाव कबीर पर भी पड़ा। उनका पूरा बचपन जैविक खेती देखते और उसे समझते बिता। वही अंजलि रुद्राराजु करियप्पा ने हैदराबाद से प्रबंधन की पढ़ाई की और फिर न्यू यॉर्क में फाइनेंसियल सर्विस में काम किया। लगभग एक दशक तक इसमे काम करने के बाद 2010 में अंजलि नौकरी छोड़ कर भारत वापस आ गयी। भारत वापस आने के बाद इन्होंने जैविक खेती की शुरुआत की । अंजलिं को जैविक खेती में कोई अनुभव तो नही था पर परिवार के साथ इन्होंने छोटे से ज़मीन के टुकड़े पर जैविक खेती करनी शुरू की।

Anjali kariyappa and kabir kariyappa farming

अंजलि और कबीर करियप्पा का यररोवे फार्म(Yarroway farm)

युवा दंपति अंजलि और कबीर ने कर्नाटक के मैसूर शहर के नज़दीक कोटे तालुका के हलासुरु गांव में एक बड़ा फार्म हाउस बनाया और इस फार्म को नाम दिया यररोवे फार्म(Yarroway farm)। कबीर और अंजलि ने यहाँ अन्य सात लोगो की मदद से 50 एकड़ की ज़मीन पड़ जैविक खेती की शुरआत की। इस के अलावा इन दोनों ने गांव के लोगो को जैविक खेती भी सिखाई और उन्हें काम भी दिया।

यह भी पढ़े :- 7 वर्ष पुरानी बैंक की नौकरी छोड़ बन गए किसान, खेती में रिस्क उठाये और आज 8 लाख तक सलाना कमाते हैं

सब्ज़ियों की मैसूर और बैंगलोर के बाजार में सप्लाई

अंजलि रुद्राराजु करियप्पा और कबीर करियप्पा(Anjali rudraraju cariappa and kabir cariappa) अपने
50 एकड़ की ज़मीन पड़ अपने लिए फल-सब्ज़िया तो उगाते ही हैं साथ ही बाजार में जिनकी ज़्यादा डिमांड होती है, उसकी भी खेती करते हैं। इनके खेत मे आपको गन्ना, कपास, मूंगफली सरसो से लेकर गेंहू, चावल, ज्वार-बाजरा, रागी जैसे अनेक अनाज देखने को मिलेंगे। अंजलि और कबीर सभी प्रकार के दाल और मसाले भी अपने खेत मे जैविक तरीके से उगाते हैं। खुद के खाने के अलावा यह दंपति फल और सब्जियों को मैसूर और बैंगलोर के बाजार मे बेचते हैं। गुणवत्ता के कारण इनके फल-सब्ज़ियों की डिमांड भी बाज़ार में रहती हैं।

Anjali and kabir in his field

आज प्रदूषण के बीच कट रहे जीवन के पल से अच्छा कही दूर पर्यावरण के नज़दीक अपनी ज़िंदगी बिताना। जहा खुद सब्ज़िया उगाओ और खाओ। इस तरह से इंसान खुद को स्वस्थ भी रखता है और मन को शांति भी मिलती हैं। आज यही सुकून की ज़िंदगी जी रहे हैं अंजलि रुद्राराजु करियप्पा और कबीर करियप्पा।

मृणालिनी सिंह
मृणालिनी बिहार के छपरा की रहने वाली हैं। अपने पढाई के साथ-साथ मृणालिनी समाजिक मुद्दों से सरोकार रखती हैं और उनके बारे में अनेकों माध्यम से अपने विचार रखने की कोशिश करती हैं। अपने लेखनी के माध्यम से यह युवा लेखिका, समाजिक परिवेश में सकारात्मक भाव लाने की कोशिश करती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

दिल्ली की मोटी तनख्वाह वाली नौकरी छोड़, घर मे बेकरी का काम शुरू की, अब महीने का 50 हज़ार कमा रही हैं

हमे अपनी जिंदगी में कुछ अलग करने की चाहत होनी चाहिए। नौकरी तो सब करते हैं लेकिन नौकरी के अलावा खुद को आत्मनिर्भर बनाना...

नौकरी छोड़ मशरूम से 5 करोड़ का सालाना आय करती हैं उत्तराखंड की मशरूम गर्ल, राष्ट्रपति भी सम्मानित कर चुके हैं

हमारे देश में लोग रोजगार पाने हेतु अपने राज्य को छोड़कर दूसरे राज्य में निकल पड़ते हैं। गरीब परिवार के लोग नौकरी की तलाश...

इंजीनियरिंग के बाद नौकरी के दौरान पढाई जारी रखी, 4 साल के अथक प्रयास के बाद UPSC निकाल IAS बने

आज हमारे देश में कई बच्चे पढ़ाई के दम पर ऊंचे मुकाम हासिल कर रहे हैं। वे यूपीएससी की तैयारी कर लोक सेवा के...

पुलवामा शहीदों के नाम पर उगाये वन, 40 शहीदों के नाम पर 40 हज़ार पेड़ लगा चुके हैं

अक्सर हम सभी पेड़ से पक्षियों के घोंसले को गिरते तथा अंडे को टूटते हुए देखा है। यदि हम बात करें पक्षियों की संख्या...