Saturday, December 3, 2022

75 वर्षों से अंधेरे में जी रहा था यह गांव, दिवाली के शुभ अवसर रौशनी से जगमगा उठा

दीपावली को दीपों का त्योहार अर्थात रौशनी का पर्व है। इतना ही नहीं इस पर्व को बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में भी मनाया जाता है। रौशनी का पर्व दिवाली के अवसर पर हर घर प्रकाशमय हो जाता है और कुछ ऐसा ही यूपी के एक गाँव में देखने को मिला है। आजादी के 75 वर्षों बाद यह गांव दिवाली के अवसर पर रौशनी से जगमगा उठा है।

हालांकि, इस बात पर यकीन करना थोड़ा-सा मुश्किल होगा कि आखिर आजादी के इतने वर्षों तक कोई जगह इतना अंधकारमय कैसे हो सकता है लेकिन यह सच्चाई है। भारत के उत्तरप्रदेश राज्य (Uttar Pradesh State) का यह गांव 75 वर्षों से अंधेरे में था जो इस दिवाली के अवसर पर प्रकाशमय हो उठा है। इसी कड़ी में चलिए जानते हैं इस गांव के बारें में विस्तार से-

आजादी के इतने सालों तक अंधेरे में था यह गांव

दरअसल, हम बात कर रहे हैं उत्तरप्रदेश के एटा जिले के तुलाई नगला गाँव की, जो देश आजाद होने से लेकर अभी तक बिजली से काफी दूर था। आजकल जहां लोगों का जीवन इलेक्ट्रिसिटि (Electricity) पर आधारित हो गया है ऐसे में बिना बिजली की जीवनयापन करना बेहद कठिन है। इसके बावजूद भी इतने सालों तक यह गांव में अंधेरे में अपना जीवन व्यतीत कर रहा था लेकिन यह दीपावली उनके लिए खुशियां लेकर आई है। इस दिवाली के खास अवसर पर बिजली विभाग की ओर से स्पलाई लाइन और ट्रांसमिशन पोल समेत ट्रांसफॉर्मर भी लगाया दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, गांव के रहनेवाले 100 वर्षीय बुजुर्ग राजाराम ने बताया कि, एक अरसे बाद गांव की सड़कों पर जब रोशनी बिखरी तो देखकर विश्वास नहीं हो रहा है कि यह हमारा वहीं गांव है जो लंबे समय से अंधेरे में था। यह अविश्वसनीय है। उन्होंने आगे बताया कि, कई दशकों से वहां के स्थानीय अधिकारियों और नेताओं से मिलकर इस बारें में बात की गई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। इस बीच सरकार की तरफ से न जाने कई योजनाएं आईं और चली भी गईं लेकिन इस गांव को अंधेरे ने अपनी चपेट में ही रखा।

यह भी पढ़ें:- रंगों से नहीं बल्कि कीलों और धागों से इस महिला ने बनाई अनोखी और बेहद शानदार रंगोली, लोग कर रहे जमकर तारीफ

अजादी के इतने वर्ष बाद इस दिवाली पर मिला बिजली का बड़ा तोहफा

आजादी के इतने वर्षों के बाद बिजली मंत्री श्रीकान्त शर्मा के आदेश के बाद यूपी के इस गाँव में अब गाँव बिजली मे बिजली पहुंची है और पूरा गाँव प्रकाशमय हो गया है। गांव में बिजली की सुविधा उप्लब्ध कराने के लिए 63 केवीए क्षमता का ट्रांसफॉर्मर और 22 बिजली के खम्बे स्थापित किए गए हैं। इतना ही नहीं गांव के हर घर में बिजली पहुंचाने के लिए साढ़े तीन सौ मीटर लंबी बिजली लाइन भी बिछाई गई है। यूपी के नगला गांव में बिजली के आने से हर घर प्रकाशमय हो गया है जो बेहद खुशी की बात है।

नगला गांव की जनसंख्या लगभग 300 है, जिन्हें आधुनिक युग में भी बिना बिजली के कई सारी समस्याओं का सामना करते हुए जीवन गुजार रहे थे। यहां तक कि मोबाइल चार्ज करने के लिए भी उन्हें दूसरे गांव जाना पड़ता था। ऐसे में आप समझ सकते हैं कि इस गांव के लोगों का जीवन बिना बिजली के कितना कष्टपुर्ण था। लेकिन इस दिवाली के अवसर पर उन्हें बिजली के रूप में बहुत बड़ा तोहफा मिला है। इस बार हर ग्रामिण अपने घर को बिजली से रोशन कर सकेंगे और अब उनका जीवन भी आसान हो जाएगा।