Saturday, December 3, 2022

कभी अकाल से जूझ रहा था बाङमेर का ये इलाका, आज किसानों की मेहनत से लहलहा रहे अनार के पौधे

आज हमारा देश खाद्यान्न तथा बागवानी फसलों के बेहतर उत्पादन वाला देश बन चुका है। देश और विदेशों में हमारे यहां से उत्पाद निर्यात के लिए जाते हैं। जो इलाके कभी सूखाग्रस्त हुआ करते थे आज वहां भी बागवानी खेती द्वारा बेहतर उत्पादन कर करोड़ों रुपए कमाया जा रहा है। अगर आप भी ये जानना चाहते हैं कि वह इलाका कौन सा है और वहां ऐसा क्या किया गया जिससे करोड़ों का लाभ कमाया जा है तो हमारे लेख पर बने रहें??

इस लेख द्वारा आप ये सारी जानकारी लेने में सक्षम होंगे कि वहां के कमाई का राज क्या है? वह इलाका है राजस्थान का बाड़मेर इलाका जो कभी सूखाग्रस्त होने के कारण कई कठिनाइयों का सामना करता था लेकिन आज यहां सब कुछ बदल चुका है।

राजस्थान का बाड़मेर इलाका

आज राजस्थान के बाड़मेर इलाके में अनार की बागवानी इतनी विकसित हो चुकी है कि यहां के अनार लोगों को खूब पसंद आ रहे हैं और साथ ही ये विदेशों में भी बिकने के लिए जा रहा है। यहां लगभग 8 हजार हेक्टेयर भूमि में अनार की बागवानी नई तकनीक द्वारा हो रही है। -Pomegranate Cultivation From Rajasthan

यह भी पढ़ें:-सभी विषयों को हिन्दी कविताओं के जरिए पढ़ाती है यह शिक्षिका, “हिन्दी वाली दीदी” के नाम से मशहूर है

था कभी सूखाग्रस्त इलाका

जानकारी के मुताबिक राजस्थान में स्थित बाड़मेर इलाका सूखाग्रस्त होने के बावजूद भी किसानों के लिए बड़ी आमदनी का स्रोत बना हुआ है। क्योंकि यहां बड़े पैमाने पर अनार की खेती की जा रही। फलों की क्वालिटी इतनी अच्छी है कि यह हमारे देश के महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिलनाडु, कर्नाटक तक बिकने के लिए जाते हैं। यह चमत्कार यहां के किसानों के मेहनत के बदौलत सम्भव हुआ है। -Pomegranate Cultivation From Rajasthan

3 लाख की लागत 6 लाख कमाई

यहां के एक फसल किसान रमेश कुमार यह बताते हैं कि उन्होंने आज से लगभग 5 वर्ष पूर्व यहां अपने खेतों में गोटी और जेंट ईएसयू प्रजाति के लगभग 13000 पौधे लाकर लगाए थे। इसमें उन्हें लगभग 3 लाख रुपए की लागत आई वहीं इससे उन्हें 6 लाख की आमदनी भी हुई। इसके बाद उन्होंने अपने खेती के दायरे को बढ़ाया। उनकी अनार की क्वालिटी बेस्ट थी जिस कारण इसका डिमांड मार्केट में बढ़ गया और हाथों-हाथ यही बिकने लगा। -Pomegranate Cultivation From Rajasthan

यह भी पढ़ें:-ड्राइवर की बेटी ने RJS की परीक्षा में 66 वीं रैंक हासिल करके बढ़ाया पिता का मान, अब बनेगी जज

आद्रतापूर्ण जमीन के कारण हो रहा है लाभ

यहां पागरु, महिलावास, बाड़मेर, मांगी, कानासर, सिवाना, मोकलसर, उण्डू, मोखाब, कथाड़ी तथा बालोतरा आदि इलाके में अनार की खेती हो रही है। कृषि विशेषज्ञ बताते हैं कि यह आद्रता वाली जगह है जिस कारण यहां फसलों में कम बीमारियां होती है। इस कारण कीटनाशक और दवाइयों पर ज्यादा खर्च करने नहीं पड़ते। यानि यहां के किसान अपने इस खेती से अच्छा लाभ कमा रहे हैं वो भी कम लागत में। -Pomegranate Cultivation From Rajasthan

550 करोड़ की कमाई

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यहां के अनार दुबई बांग्लादेश तथा नेपाल में निर्यात के लिए जा रहे हैं आज यहां लगभग 8 हजार हेक्टेयर जमीन पर अनार की खेती से 550 करोड़ रुपए का व्यापार हो रहा है। इससे किसानों की आर्थिक स्थिति बेहतर हो रही है इनसे प्रेरणा लेकर आज हमारे देश के किसान बागवानी फसलों की खेती शुरू कर लाभ कमा रहे। –Pomegranate Cultivation From Rajasthan