मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। महान यूनानी दार्शनिक अरस्तू का यह कथन हम सबने विद्यालय में पढ़ा है। किताब में लिखी यह पंक्ति हम बचपन में ही रट लेते है। तब गुरुजी अक्सर कक्षा में कहा करते थे, “किसी भी पाठ को रटने और समझने में फ़र्क होता है। रटी हुई बातें ज़्यादा देर तक याद नहीं रहती जबकि समझी हुई बातें ताउम्र हमारे साथ रहती हैं।” तब समझ नहीं वाली बात अब समझ आती है। सही कहा करते थे गुरुजी। मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है.. हम सभी पढ़े थे। फिर भी अपने आस-पास जब ऐसे लोगों को देखते हैं जिन्हें हमारी ज़रूरत है, हम कंधा उचकाते हुए निकल जाते हैं कि हमें क्या। पर हमारे साथ कुछ ऐसे भी बच्चे होते हैं जो अपने पाठ समझ कर पढ़ रहे होते हैं। शायद उन्हीं बच्चों में से एक होंगे जाने-माने पूर्व क्रिकेटर और ईस्ट दिल्ली के बीजेपी सांसद गौतम गंभीर। इन्होंने हर ज़िंदगी मायने रखती है का संदेश देते हुए दिल्ली की सेक्स वर्कर्स की बेटियों के बेहतर कल के लिए एक नई पहल की है। साथ ही यह भी कहा कि हम सभी को बेहतर और सभ्य ज़िंदगी जीने का हक़ है।

25 सेक्स वर्कर्स की बेटियों को शिक्षित करने की घोषणा की

गौतम गंभीर ने गुरुवार 30 जुलाई को दिल्ली शहर के जीबी रोड एरिया में 25 सेक्स वर्कर्स की बेटियों के बेहतर भविष्य के लिए उन्हें शिक्षित करने की घोषणा की है। साथ ही गम्भीर ने कहा कि मैं उनके रहन सहन और स्वास्थ्य का भी ख्याल रखूंगा। इसके अलावा उन नाबालिग बच्चियों (5-18) की काउंसलिंग कर उन्हें सशक्त बनाने की भी कोशिश की जाएगी ताकि वे अपनी शिक्षा पूरी कर सकें और निडर होकर एक उज्जवल भविष्य के सपने देख सकें।

पहल ‘पंख’ शुक्रवार से होगा शुरू

अपने इस मुहिम को गौतम गंभीर ने ‘पंख’ नाम दिया है। इसे शुक्रवार को अपनी नानी के जन्मदिन पर उनके आशीर्वाद से शुरू करेंगे। इसके लिए 10 बच्चियों को चयनित कर लिया गया है और 15 बच्चियों के चयन का काम जारी है। नए सत्र से अलग अलग विद्यालयों में पढ़ेंगी। उनके स्कूल फीस, यूनिफॉर्म, खान पान, स्वास्थ्य, और अन्य सभी ज़रूरतों का ख़्याल गंभीर द्वारा चलाई जाने वाली संस्था रखेगी। फिलहाल सभी बच्चियां आश्रय गृह में रह रही हैं। इनकी पहचान भी गुप्त रखी जाएगी।

“हर ज़िंदगी मायने रखती है” का संदेश

शुक्रवार को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने लिखा, “सेक्स वर्कर्स की बेटियों को उस नरक से बाहर निकालने के लिए मैं एक नई पहल कर रहा हूं। 25 बच्चियों के साथ पंख नामक यह पहल शुरू कर रहा हूं और मैं उनकी सभी ज़रूरतों को देखूंगा जिसमें आश्रय और शिक्षा शामिल होंगे। दूसरों से आग्रह करते हुए उन्होंने लिखा कि आप भी आगे आएं और अपना योगदान दें। हर ज़िंदगी मायने रखती है।

It’s a special day for me & I want to share some imp news

To get children of sex workers out of that hell, I am starting program “PANKH” with 25 children & I’ll look after all their needs incl shelter & edu! I urge others to come fwd & contribute too!

EVERY LIFE MATTERS!

— Gautam Gambhir (@GautamGambhir) July 31, 2020

The Logically दिल्ली की सेक्स वर्कर्स की 25 नाबालिग बेटियों की देखभाल करने और पूरे समाज को एक नया मैसेज देने के लिए शुक्रिया करता है।

Logically is bringing positive stories of social heroes working for betterment of the society. It aims to create a positive world through positive stories.

Archana is a post graduate. She loves to paint and write. She believes, good stories have brighter impact on human kind. Thus, she pens down stories of social change by talking to different super heroes who are struggling to make our planet better.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here