Tuesday, April 20, 2021

जूट के कारोबार से 19 हज़ार करोड़ की सम्पत्ति खड़ा करने वाले भारत के दिग्गज व्यपारी: मल्लिकार्जुन राव

गांधी मल्लिकार्जुन राव(Gandhi Mallikarjun rao), आज भारतीय उद्योग जगत के प्रमुख चेहरों में से एक हैं। इस शख्स ने अपनी कड़ी मेहनत के बदौलत देश की बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनियों में से एक जीएमआर समूह (GMR Groups)ही स्थापना की।

गांधी मल्लिकार्जुन राव (Gandhi Mallikarjun rao)का जन्म 14 जुलाई 1950 को आंध्र प्रदेश के राजम में एक उच्च माध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। बचपन मे पढ़ाई-लिखाई में कुछ खास नही थे पर माध्यमिक स्कूल की परीक्षा में फेल होने के बाद इन्हें पढ़ाई का महत्व समझ आया। यह विफलता उनके जीवन में एक बड़ा बदलाव लेकर आया। इसके बाद सारी परीक्षाए मल्लिकार्जुन राव ने प्रथम श्रेणी से पास की । आगे की पढ़ाई के लिए इन्होंने सरकारी कॉलेज में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में दाख़िला लिया। मल्लिकार्जुन राव अपने परिवार के पहले सदस्य थे जिन्होंने ग्रेजुएशन की पढाई की।

मल्लिकार्जुन राव के पिता चाहते थे कि बच्चें पढ़-लिख कर अच्छी नौकरी करे और इनकी माता चाहती थी कि बेटा पैतृक व्यवसाय को आगे बढ़ाए। माँ की इच्छा के अनुसार इन्होंने कॉलेज की पढाई खत्म करने के बाद जुट के पारिवारिक व्यवसाय को अपने भाई के साथ संभाला और इसे आगे भी बढ़ाया।

CEO Gandhi Mallikarjun rao

उद्योग जगत का प्रमुख चेहरा बनने की शुरुआत

1985 में राव ने जुट के व्यवसाय को छोड़ प्लास्टिक इंडस्ट्री में हाथ आजमाने की सोची। इनके भाई ने जुट के बिज़नेस को संभाला और इन्होंने प्लास्टिक पाइप, चक्र रिम्स और अन्य छोटे उद्योग में हाथ आजमाया। इन उद्योगों के कारण मल्लिकार्जुन आंध्र प्रदेश के उद्योग जगत में पहचान बनाई।

व्यासा बैंक को राष्ट्रीय बैंक तौर पर प्रस्तुत किया

मल्लिकार्जुन राव ने आन्ध्र प्रदेश के एक छोटे से बैंक व्यासा बैंक के प्रमुख का पदभार ग्रहण किया। यह एक छोटा सा बैंक था पर धीरे-धीरे राव ने इसे देश के सामने एक राष्ट्रीय बैंक के तौर पर प्रस्तुत किया। बाद में वह इसमे हिस्सेदार भी बन गए।

यह भी पढ़े :- महज़ 30 साल की उम्र में साबित किये अपनी काबिलियत, आज करोड़ो का बिज़नेस डील करते हैं

जीएमआर समूह की स्थापना

गांधी मल्लिकार्जुन राव ने जीएमआर समूह की स्थापना की । शुरुआत में इस समूह ने कृषि और पावर इंडस्ट्री में पहचान बनाई। बाद में इन्होंने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत देश की इंफ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री में क़दम रखा।
भारत मे जीएमआर समूह(GMR Groups) ने अपने जगह बनाने के बाद विश्व के दूसरे देश जैसे नेपाल, मालदीव, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, फिलिपिन्स और इंडोनेशिया के उद्योग जगत में अपनी जगह बनाई।

उपलब्धि और सम्मान

आज देश के महवपूर्ण एयरपोर्ट्स जैसे राजीव गांधी अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट, हैदरबाद और इंदिरा गांधी अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट, नई दिल्ली का परिचालन जीएमआर समूह के अंतर्गत ही होता हैं।

2007 में गांधी मल्लिकार्जुन राव को Economic Times Entrepreneur of the year अवार्ड प्रदान किया गया था।

अपनी मेहनत के बलबूते आज मल्लिकार्जुन राव 19 हज़ार करोड़ के संपत्ति के मालिक हैं।

मृणालिनी सिंह
मृणालिनी बिहार के छपरा की रहने वाली हैं। अपने पढाई के साथ-साथ मृणालिनी समाजिक मुद्दों से सरोकार रखती हैं और उनके बारे में अनेकों माध्यम से अपने विचार रखने की कोशिश करती हैं। अपने लेखनी के माध्यम से यह युवा लेखिका, समाजिक परिवेश में सकारात्मक भाव लाने की कोशिश करती हैं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय