मनुष्य को हमेशा एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। हर किसी को किसी न किसी की सहायता की ज़रुरत पडती है। जो दूसरो की मदद करतें हैं वह अपनी उदारता का परिचय देते हैं। ज़रुरतमंदो की मदद करने से भगवान से मदद मिलती है। अगर हम किसी की सहायता करतें हैं तो भगवान के द्वारा हमारी भी मदद करने के लिए किसी न किसी को भेज देते है। एक अच्छे समाज की स्थापना के लिए यह ज़रूरी है कि सभी कोई एक दूसरे की बेझिझक मदद करें।

यह भी पढ़े :-

अपनी जान जोख़िम में डालकर, बाढ़ पीड़ितों तक सहायता पहुंचा रहा युवाओं का यह समूह: रोटी बैंक छपरा

जैसा की सभी जानते है आजकल बहुत जगहों पर बाढ़ आ गया हैं जिससे अनेको लोगों की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गयी है। ऐसे में सरकार बाढ़ में फंसे लोगों की सहायता कर रही हैं। राज्य की सरकारें सभी को बाढ़ से बाहर निकाल रही है, खाना पहुंचा रही है और सभी को सुरक्षित जगह पर ले जा रही हैं। इसी बीच एक थाना प्रभारी ने अपनी बहादुरी दिखाई और दूसरों की मदद करने के लिए एक मिसाल पेश की।

मध्यप्रदेश (Madhya pradesh) के रायगढ़ (Raighadh) के तलेन (Talen) में भीषण बारिश होने के कारण वहां बाढ़ के जैसी परिस्थितियां उत्पन्न हो गयी है। भारी वर्षा होने के वजह से उगल नदी उफान पर आ गयी है जिसके कारण बारिश का पानी वहां के सभी स्थानीय लोगों के घरों में घुस गया है। वहां के रहनें वालों के लिए यह मौत का संकट बन गया है। प्रशासन अपनी पूरी ताकत से स्थानीय लोगों को निकालने में लगी हुई हैं। इस खबर की सूचना मिलतें ही तलेन थाना क्षेत्र के थाना प्रभारी विभेन्द्रु व्यन्कट अपनी टीम के साथ वहां पहुंचे तो उन्होनें देखा कि निंद्रा गांव के पास में घर में एक बूढ़ा व्यक्ति और दो बच्चे फंसे हुए हैं।

यह देख के बिना समय गवाये थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ वर्दी पहने ही पानी में छलांग लगा दिये और बड़ी सतर्कता से उन्होनें उस बुजुर्ग और बच्चे को अपने कंधे पर बैठा कर पानी के तेज बहाव से बाहर निकालने में सफल रहें। लोग उनकी ख़ूब वाहवाही कर रहें हैं और फुले नहीं समा रहें।

थाना प्रभारी के इस साहस शक्ति को The Logically सलाम करता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here