Saturday, December 3, 2022

इस महिला ने नौकरी छोड़कर शुरू किया मधुमक्खी पालन, आज पैसे कमाने के साथ कर रही हैं प्रेरित

आज 21वीं सदी की महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी जीत का ध्वज लहराने में सफलता हासिल कर रही है। महिलाएं खेती से लेकर गार्डेनिंग, घर-परिवार तथा बॉर्डर की रक्षा कर स्वयं को लोगों के सामने प्रदर्शित करने में सक्षम हो रही है। आज की हमारी यह कहानी ऐसे महिला की है जिन्होंने नौकरी छोड़ मधुमक्खी पालन का व्यवसाय प्रारंभ किया और आज वह अपने इस मधुमक्खी पालन के व्यवसाय से लाखों रुपए कमा कर अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणा स्रोत बनी हुई है।

गुजरात की तन्वी की कहानी

वह महिला हैं तन्वी (Tanvi) जो गुजरात (Gujrat) से ताल्लुक रखती हैं। उन्हें मधुमक्खी पालन का आईडिया कुछ समय बाद आया वह पहले नौकरी कर रही थी परंतु खेती करने को लेकर वह अपने पति से प्रेरित हुई। उन्होंने नौकरी छोड़ने का निश्चय किया और अंततः नौकरी छोड़ ऑर्गेनिक फार्मिंग की तरफ अग्रसर हुईं। वह बताती है कि मैंने ऑर्गेनिक फार्मिंग को इसलिए अपनाया क्योंकि मैंने यह देखा कि लोगों का ट्रेड ऑर्गेनिक फार्मिंग की तरफ ज्यादा बढ़ रहा है। अब उन्होंने यह तय कर लिया कि वह पारंपरिक खेती को छोड़ देंगी। -Tanviben from Gujrat by Bee Farming

यह भी पढ़ें:-इंजीनियर की नौकरी छोड़कर शुरू की शिमला मिर्च की खेती, सलाना 20 लाख रुपए की कमाई

इसे बढ़ावा देने के लिए उनके पति हिमांशु ने भी नौकरी छोड़ने का निश्चय किया और नौकरी छोड़ डेयरी फार्मिंग की शुरुआत में लग गए। हालांकि उन्हें अपने सफ़र में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता कभी वह फसलों में लगे कीड़ों से परेशान रहते हैं जिस कारण उन्हें परेशानियां होती। क्योंकि वे नहीं चाहते थे कि कीड़ों को मारने के लिए कीटनाशक का प्रयोग करें। -Tanviben from Gujrat by Bee Farming

Tanvi Bee Keeping

ऐसे आया मधुमक्खी पालन का तरकीब

उन्हें किसने सजेशन दिया कि तुम कीड़ों से निजात पाने के लिए मधुमक्खी पालन का व्यवसाय प्रारंभ करो। इससे कीड़ो के बचाव के साथ-साथ शहद से अच्छा खासा लाभ भी कमा पाओगे। अब उन्होंने शहद बॉक्स का इंतजाम किया और मधुमक्खी पालन प्रारंभ कर दिया। जिससे खेतों में कीड़ों की समस्याओं से निजात मिला। अब वह इस मधुमक्खी पालन के व्यवसाय में सफल भी हुईं। -Tanviben from Gujrat by Bee Farming

यह भी पढ़ें:-दुनिया की कुल 800 करोड़ आबादी में मात्र 45 लोगों के पास है यह दुर्लभ गोल्डन ब्लड

मधुमक्खी पालन का व्यवसाय प्रारंभ करने से पूर्व उन्होंने प्रशिक्षण लिया जो खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन अहमदाबाद के संपर्क से पूरा हुआ। उन्हें ट्रेनिंग के साथ-साथ बी बॉक्स भी मिले जिससे वह मधुमक्खी पालन के व्यवसाय को प्रारंभ कर सकें। यहां के सहयोग से उनका हर कार्य आसान हुआ और हर जगह उन्हें अच्छी बढ़त मिली। -Tanviben from Gujrat by Bee Farming

25 लाख की आमदनी

उन्होंने सफलता हासिल की और आगे उन्हें 100 बी बॉक्स लगाएं। अब उन्हें प्रोत्साहन मिला और ATMA के अधिकारियों का ध्यान उनके तरफ आकर्षित हुआ। बीते कुछ वर्षों से वह महिलाओं को इस कार्य के लिए ट्रेनिंग भी दे रही हैं। वह अपने इस मधुमक्खी पालन के व्यवसाय से 25 लाख रुपए तक कमा रहीं हैं। उनका Svadya नामक स्टार्टअप प्रारंभ हुआ है जो सफलता हासिल कर रहा है। -Tanviben from Gujrat by Bee Farming