Thursday, August 18, 2022

आर्थिक तंगी के कारण शुरु किया था ऑटो चलाना, अब दूसरी महिलाओं को ऑटो सिखाकर बना रही आत्मनिर्भर

हमारे देश की महिलाएं अपने मेहनत के बदौलत सभी क्षेत्रों में सफलता हासिल कर रही है। अब वे सभी क्षेत्रों में पुरुषों का डट कर सामना कर रही हैं। महिलाएं अब इतना सशक्त हो गई हैं कि किसी भी काम काज के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं हैं। वे खुद रोजगार कर दुसरों को रोजगार मुहैया करा रही हैं और यह हमारे समाज की बदलती तस्वीर है। आज हम बात करेंगे हरियाणा (Haryana) के हिसार की रहने वाली प्रमिला (Pramila) की, जो पिछले 6 सालों से आत्मनिर्भर बनकर ऑटो चला रही हैं और अन्य महिलाओं को भी आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित कर रही हैं।

घर की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए चलाना शुरू किया ऑटो

प्रमिला (Pramila) के घर का हालात बहुत खराब थे जिस कारण उन्होंने घर के खर्च उठाने के लिए ऑटो चलाने का काम शुरू कर दिया। इतना हीं नहीं, वे अन्य महिलाओं को भी ऑटो चलाना सिखाती हैं। उन्होंने शहर में गुलाबी ऑटो शुरू किया है। शुरुआत में तो 20 महिलाएं जुड़ी लेकिन धीरे-धीरे उनके संख्या में बढ़ोतरी होने लगी। हालांकि डेढ़ साल पहले प्रमिला बीमार हो गई थीं, जिस कारण उन्होंने ऑटो चलाने का काम छोड़ दिया था लेकिन वे अब फिर से महिलाओं को ऑटो चलाने के लिए ट्रेंड कर रही हैं।

Story of woman auto driver pramila

3 दिनों में सीख सकते हैं ऑटो चलाना

प्रमिला (Pramila), अन्य महिलाओं को ऑटो चलाने के लिए प्रशिक्षण दे रही हैं। उनका कहना है कि वे मात्र 3 दिन में ऑटो चलाना सीखा सकती हैं। प्रशिक्षण के साथ वे महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित भी कर रही हैं। वे अपने टीम के साथ हिसार, झज्जर, पानीपत और जींद में भी महिलाओं को ऑटो चलाने की ट्रेनिंग दे रही हैं ताकि महिलाएं ट्रेंड होकर ऑटो चलाकर खुद कमाई कर सकें।

बता दें कि, प्रमिला (Pramila) ने घर के जिम्मेदारियों को उठाने के लिए ऑटो चलाने का काम शुरू किया था। अब वे ऑटो चलाकर पूरी तरह से घर के खर्चों में अपने परिवार की मदद कर रही हैं। वे चाहती हैं कि, वे अपने जैसे हीं अन्य महिलाओं को भी आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रेरित करे ताकि अन्य महिलाएं भी घर के खर्च के लिए पुरुषों पर निर्भर न रहे।

यह भी पढ़ें :- व्हीलचेयर के जरिए करते हैं फूड डिलीवरी, दिव्यांगता को मात देकर देश के पहले व्हीलचेयर फूड डिलीवरी ब्वॉय बने

जो लोग पहले मारते थे ताना, अब वही करते हैं प्रशंसा

प्रमिला ने बताया कि, शुरुआत में जब वे ऑटो चलाती थी तो लोग ताना मारा करते थे लेकिन अब वही लोग उनकी प्रशंसा करते नहीं थकते। इसके अलावें पुलिस अधीक्षक शशांक आनंद ने भी उनको प्रोत्साहित किया है।

प्रमिला (Pramila) ने बताया कि, “महिलाओं को ऑटो चलाने की ट्रेनिंग रोहतक के आसपास जहां भी देनी होती है स्थानीय प्रशासन के लोग मुझसे संपर्क करते हैं इसके बाद मैं अपने टीम के साथ वहां जाकर ट्रेनिंग देती हूं।”

प्रियंका गांधी को कराया अपने ऑटो से रोहतक का दौरा

कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी साल 2019 में चुनाव प्रचार करने हेतु रोहतक गई थीं और उस दौरान उन्होंने रोहतक का दौरा प्रमिला के ऑटो में बैठकर किया था। प्रियंका गांधी ने प्रमिला की खूब तारीफ भी की थी।